बारसंघ अध्यक्ष के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश से खलबली

– पैतृक गांव लाड़ूपुरा के एक व्यक्ति ने कोर्ट से कराया एफआईआर दर्ज कराने का आदेश
कोंच।
 बारसंघ अध्यक्ष नवलकिशोर जाटव के खिलाफ कोर्ट ने 156 (3) के तहत एफआईआर दर्ज किए जाने के आदेश किए हैं। हालांकि कोतवाली पुलिस ने अभी एफआईआर दर्ज नहीं की है लेकिन इसकी सुगबुगाहट से वकीलों में खलबली के साथ गुस्सा भी है और वे इस मसले पर लामबंद हो रहे हैं। मंगलवार को बार भवन में बहुत ही शॉर्ट नोटिस पर अधिवक्ताओं की आकस्मिक बैठक बुलाई गई थी जिसमें तय किया गया कि वादी के अधिवक्ता को बुला कर प्रकरण को सुलझाने का प्रयास किया जाएगा। इसके लिए पांच सदस्यीय एक समिति का भी गठन किया गया है जो इस मामले को देखेगी और प्रभावी पैरोकारी कर बारसंघ अध्यक्ष को एफआईआर से बचाने का प्रयास करेगी।

बार भवन विजय बारहदरी में मंगलवार को अपरान्ह दो बजे बारसंघ की आकस्मिक बैठक आहूत की गई जिसकी अध्यक्ष बारसंघ अध्यक्ष नवलकिशोर जाटव ने की एवं संचालन महामंत्री रामलखन कुशवाहा ने किया। एक सूत्रीय एजेंडे को लेकर बुलाई गई इस बैठक में मामला बताते हुए कहा गया कि बारसंघ अध्यक्ष नवलकिशोर जाटव व उनके भतीजे दिनेश कुमार एडवोकेट के खिलाफ 156 (3) के तहत एक प्रकरण न्यायालय सिविल जज जूनियर डिवीजन कोंच में दायर किया गया जिसमें न्यायालय ने आदेश पारित किया है कि उपरोक्त लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

बैठक में प्रस्ताव पारित किया गया कि 5 फरवरी बुधवार को पांच सदस्यीय समिति जिसमें पूर्व बारसंघ अध्यक्ष द्वय संतलाल अग्रवाल, विनोद अग्निहोत्री, रामकुमार खरे, जीवनलाल अशोक, राघवेन्द्र आनंद विदुआ को शामिल किया गया है, वादी के अधिवक्ता संतोष खरे को वुलवा कर प्रकरण को सुलझाने का प्रयास करेंगे। इस दौरान अंबरीश रस्तोगी, संजीव तिवारी, योगेन्द्र रूसिया, रामप्रकाश दुवे, सुरेन्द्र शर्मा, अरुण कुमार वाजपेयी, शौकतअली, एनुल आरफीन, रामनरेश त्रिपाठी, भानु जाटव, तेजराम जाटव, दिनेश जाटव, संतोष खरे, विश्वंभर दयाल जाटव सहित तमाम अधिवक्ता मौजूद रहे।

इस तरह है पूरा प्रकरण
बारसंघ अध्यक्ष और उनके भतीजे के खिलाफ 156 (3) के तहत कोर्ट ने एफआईआर दर्ज करने के आदेश कोतवाली पुलिस को किए हैं। जिस मामले में कोर्ट ने संज्ञान लिया है उसके मुताबिक बारसंघ अध्यक्ष नवलकिशोर जाटव और उनके भतीजे दिनेश पर आरोप है कि उन्होंने अपने पैतृक ग्राम लाड़ूपुरा थाना कैलिया निवासी छोटेलाल पुत्र सदू से दो बार में उसकी जमीन क्रय की थी जिसमें कुछ पैसा उन्होंने नकद दे दिया था और उसके ऊपर चढा तकरीबन नौ लाख रुपए का कर्ज क्रेता चुकता करेंगे। जमीन का दाखिल खारिज भी करा लिया गया लेकिन विक्रेता के ऊपर चढा कर्ज नहीं चुकता किया गया। बैंक द्वारा छोटेलाल के पास लगातार कर्ज अदा करने के नोटिस भी आ रहे हैं जिन्हें लेकर उसने नवलकिशोर व दिनेश से कई दफा कहा लेकिन उसके मुताबिक उन लोगों ने उसकी नहीं सुनी। इधर, कोतवाल इमरान खान ने बताया है कि कोर्ट से एफआईआर दर्ज करने का आदेश प्राप्त हो गया है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here