स्वतंत्र प्रभात-2019 चुनाव के पहले ही जिलाध्यक्ष का बदलाव एक रहस्य

 

फ़तेहपुर न्यूज 

सुशील कुमार त्रिपाठी

 

      2019 लोक सभा चुनाव से पहले जिलाध्यक्ष बदलना समझ से परे

फतेहपुर जिला अध्यछ दिनेश बाजपेई का अचानक रातो रात जिलाध्यक्ष पद से बदल जाना जनता के लिए बहुत बड़ी बात बन गयी। कोई जिलाध्यक्ष  आजीवन  तो नही रहता पर 2109 लोकसभा चुनाव  से पहले संघर्षसील  जिलाध्यक्ष दिनेश बाजपेई के नेतृत्व में भाजपा ने कई अभूतपूर्व कीर्ति मान हासिल किए है

जिले में भारतीय जनता पार्टी ने इतिहास मे जो कभी नही कर पाई वो सब पूर्व जिलाध्यक्ष के नेर्तत्व में भाजपा ने हासिल किया जिले में 6 विधानसभा सीटो में सभी सीटे भाजपा 2017 से पहले कभी नही जीती वही जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर भी  भाजपा कभी आसिन नही हो पाई थी दिनेश बाजपेई के नेतृत्व में ही भाजपा पहली बार जिला पंचायत अध्यक्ष पद हासिल करने में  सफल हुई वही जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ आये अविष्वास प्रस्ताव पर भी पूर्व जिलाध्यक्ष जिले के पहले नेता थे

जिन्होंने अविष्वास प्रस्ताव का विरोध खुले मंच से किया था जब की हाल में ही सहकारी बैंक के चुनाव में भी भाजपा इन्ही के नेतृत्व में सपा के  चक्रव्यूह को तोड़ कर सफलता हासिल की इतने संघर्ष के बाद भी आखिर दिनेश बाजपेई को समय से पहले पद से हटाना समझ से परे रहा

आने वाले लोकसभा चुनाव से पहले जिलाध्यक्ष पद पर परिवर्तन  बीजेपी को घाटे का सौदा हो सकता है और जिले में कुछ जगहों पे जिलाध्यक्ष दिनेश बाजोई को हटाने पर जनता पे काफी आक्रोस भी देखा गया...

 

C P GOSWAMI
recommend to friends

Comments (0)

Leave comment