अमेरिका व ईरान के बीच बढे तनाव, भारत हुआ सावधान!

अमेरिका और ईरान के बीच तनाव ने अपनी चरम स्थिति पंहुचा ली है। इसके पीछे की वजह ये है की ईरान की सीमा सेना के एक सीनियर अधिकारी जनरल कासिल सुलेमानी को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के निर्देश पर मार गिराया गया है। इस घटना को कई अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञ हाल के सालो में सबसे बुरे दौर के रूप में देख रहे है। इसका असर पूरे वैश्विक स्तर पर पड़ेगा। और भारत भी इस पर अपनी नज़र रखे हुए है।

इस बात को सभी राष्ट्र जानते है की अमेरिका व ईऱान के बीच युद्ध होने की स्थिति में ना सिर्फ भारत को आर्थिक तौर पर कई चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है बल्कि इन दोनो देशों के बीच सामंजस्य बनाने में भी काफी मुस्किलो और मशक्कतों का सामना पढ़ेगा। पिछले महीने दिसंबर, 2019 में ही भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अमेरिका और ईरान की यात्रा की थी।

भारत और अमेरिका के बीच विदेश व रक्षा मंत्रियों की बैठक में जब ईरान के चाबहार पोर्टे को लेकर भारत को छूट देने पर अमेरिका तैयार हुआ था। इससे माना गया था क वह ईरान व भारत के रिश्तों को लेकर बहुत ज्यादा तवज्जो नहीं दे रहा। वैसे भारत ने ईरान से तेल खरीदना पूरी तरह से बंद कर दिया है। इसके बावजूद कई वजहों से भारत के लिए ईऱान की अहमियत है। इसमें सबसे बड़ा कारण यह है अफगानिस्तान में पाकिस्तान के प्रभाव को रोकने के लिए ईरान की जरूरत रहेगी।

पिछले महीने ही चाबहार पोर्ट से अफगानिस्तान तक रेल व सड़क मार्ग बनाने की परियोजना पर बात हुई है। भारत चाबहार पोर्ट से मध्य एशिया के तमाम देशों को कारोबार के लिहाज से जोड़ने की मंशा भी रखता है। इसके लिए भारत, ईरान व रूस के बीच पहले से ही एक योजना पर काम हो रहा है। लेकिन नए हालात में अमेरिका एक बार फिर भारत को ईऱान से सारे संपर्क तोड़ने का दबाव बना सकता है। ईरान के विदेश मंत्री जावेद जरीफ के इस महीने के मध्य में भारत आने की भी संभावना है। पूर्व में भी कई बार अमेरिकी दबाव में भारत को ईरान के साथ अपने रिश्तों की समीक्षा करनी पड़ी है।

अमेरिकी के रक्षा मंत्रालय पेंटागन की तरफ से जो सूचना मिली है उसके मुताबिक ईराक के अंतरराष्ट्रीय एय़रपोर्ट पर शुक्रवार को सोलेमानी को मौत के घाट उतारा गया है। माना जा रहा है कि दो दिन पहले ईराक स्थित अमेरिकी दूतावास पर हुए हमले में सुलेमानी की भूमिका थी। इसकी कड़ी भर्त्सना करते हुए ईरान के विदेश मंत्री जावेद जरीफ ने कहा है कि यह अमेरिका का अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद है क्योंकि जेनरल सोलेमानी अल-कायदा व आइएसआइएस जैसे आतंकी संगठनों के खिलाफ लड़ाई की अगुवाई कर रहे थे। उन्होंने आगे कहा है क अब जो भी होगा उसकी जिम्मेदारी अमेरिका की होगी।

वैसे खाड़ी के क्षेत्र में हालात मई, 2018 से ही तनावपूर्ण है। तब अमेरिका ने ईरान के साथ किये गये शांति समझौते को रद्द कर दिया था और उस पर नए प्रतिबंध लगाने का ऐलान किया था। लेकिन सोलेमानी की मौत के बाद हालात के बेहद बिगड़ जाने की आशंका जताई जाने लगी है। इसका सबसे पहला असर कच्चे तेल की कीमतों पर पड़ने की बात कही जा रही है।

पिछले एक महीने में युद्ध के हालात बनने से कच्चे तेल की कीमतों में पहले से ही तेजी आ रही थी। यह स्थिति पहले से ही सुस्त पड़ रही भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए बेहद चुनौतीपूर्ण हो सकती है। भारत अभी भी अपनी कुल जरुरत का 84 फीसद कच्चा तेल बाहर से खऱीदता है। शुक्रवार को अंतरराष्ट्रीय बाजार के खुलने के साथ ही कच्चे तेल की कीमत में 4 फीसद की इजाफा होने की सूचना है। यह पिछले चार महीनों में किसी एक दिन में दर्ज की गई सबसे बड़ी बढ़ोतरी है। कच्चे तेल की कीमत अभी 68-69 डॉलर प्रति बैरल है। इसमें होने वाली बड़ी वृद्धि भारत के भुगतान संतुलन को बिगाड़ सकती है जिससे महंगाई भी बढ़ने का खतरा है। इन सब घटनाओ का असर पड़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here