स्वतंत्र प्रभात-भाजपा बिधायक ने किया था उद्घाटन जिला उद्योग के भवन में अवैध तरीके से चला रहे फर्जी अस्पताल

कादीपुर सुलतानपुर

कादीपुर तहसील में चल रहा अवैध जहरीली दवाओं का धंधा विभाग बना उदासीन

मीडिया कर्मियों के विरोध में उतरे विरोधी

 कादीपुर तहसील में हिंदी में अवैध तरीके से झोलाछाप डॉक्टर अपने क्लीनिक धड़ल्ले से चला रहे हैं जिस पर ना तो विभाग की नजर पड़ रही है और ना तो प्रशासन के झोलाछाप डॉक्टर बिना किसी डिग्री के मरीजों की जान के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं तथा जहरीली दवाओं का उपयोग किया जा रहा है जब मीडिया कर्मियों ने सघन जांच अभियान चलाया तो समस्त कमियां सामने आई।

1- सरैया बाजार कादीपुर
 यहां पर श्रद्धा हॉस्पिटल के नाम से जिला उद्योग भवन में अवैध तरीके से चलाया जा रहा अस्पताल सरकारी भवन में बिना किसी आदेश की कब्जा करने की नियत से हो रहा गोरखधंधा यहां तक कि इसी भवन में आंख तथा दांत का अस्पताल चलाते हुए अन्य अवैध तरीके का कारोबार भी किया जाता है। जब इस बाबत अस्पताल चला रहे कुंभी डडिया निवासी बी सी रसिया से बात की गई तो उन्होंने स्वीकार किया कि हम बिना किसी आदेश के यहां पर रह रहे हैं इसकी जानकारी किसी गांव के निवासी प्रेम शंकर पांडे द्वारा दिए जाने पर  मीडिया टीम ने इस घटना का खुलासा करने के लिए पहुंच गई।

 

2- दूसरी घटना दोस्त पुर के प्रतापपुर की है जहां पर डॉक्टर अच्छेलाल बिना किसी डिग्री के  धड़ल्ले से लगभग 20 साल से अपने क्लीनिक चला रहे हैं तथा जहरीली दवाओं का व्यापार कर रहे हैं।

 

3- तीसरी घटना  प्रतापपुर की है जहां डॉक्टर पवन भी बिना किसी डिग्री के अपने क्लीनिक चला रहे हैं जो की अखंड नगर के मूल निवासी हैं जब इन से जानकारी प्राप्त करने की कोशिश की गई तो उन्होंने कोई भी जवाब देने से मना कर दिया

 सबसे खास बात यह है कि जब  मीडिया टीम (हरिशंकर सोनी, सुनील कुमार, मनोज पांडे तथा संतोष सिंह ) यहां से कवरेज करके आगे बढ़ी तो कैथी जलालपुर के पास कुछ लोग बाइक से आ धमके तथा अपने को भी पत्रकार बताते हुए मीडिया टीम को घेर लिया तथा मीडिया टीम को अवैध वसूली के आरोप में घेराबंदी की। जहां पर सैकड़ों लोग इकट्ठा हो गए । टीम में शामिल संतोष सिंह जो कि  दोस्त पुर क्षेत्र के  पत्रकार कहे जाते हैं ।

 

उनको प्रतापपुर का डॉक्टर अच्छेलाल तथा पवन अपने आप को बचाने के लिए रोते हुए संतोष सिंह को मैनेज करना चाहा तथा उनकी जेब मे।  रुपए 2500 डाल दिया उसके बाद उसने अंय लोगों को सूचना देकर पूरी टीम की घेराबंदी करवा दी। अपने आप को घिरा देखकर टीम ने 100 नंबर डायल कर पुलिस को सूचित किया मौके पर पहुंची पुलिस ने टीम  को थाने पर ले जाकर संतोष द्वारा लिया गया पैसा वापस करवाकर मामले को शांत करा दिया गया ।

MANOJ KUMAR PANDEY

recommend to friends

Comments (0)

Leave comment