स्वतंत्र प्रभात-ध्यान दें! एक अक्टूबर से बदलने जा रहें हैं कई नियम...

 

एक अक्टूबर से दुकानदार पुराने खुदरा मूल्य यानी एमआरपी पर सामान नहीं बेच सकेंगे.

नई दिल्ली: आगामी 1 अक्टूबर की तारीख पर विशेष ध्यान दें क्योंकि इस दिन से देश के कई नियमों में बदलाव होने जा रहा है जिससे आप सीधे तौर पर प्रभावित होंगे. इन नियमों को जान लेने से निश्चित रूप से आपको फायदा होगा.         

इन 6 बैंकों के चेक हो जाएंगे इनवैलिड
देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई के पांच पूर्व सहयोगी बैंक एवं भारतीय महिला बैंक के चेक 30 सितंबर 2017 के बाद मान्य नहीं होंगे. कुछ दिन पहले एसबीआई ने अपने ट्विटर हैंडल पर जानकारी देते हुए ग्राहकों से नई चेक बुक के लिए इंटरनेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग, एटीएम या फिर शाखा में जाकर आवेदन करने का आग्रह किया था. सहायक बैंकों में स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ त्रवणकोर और भारतीय महिला बैंक शामिल हैं.

घट सकती है कॉल रेट: 1 अक्टूबर से कॉल रेट घट सकती है. दरअसल, ट्राई ने 1 अक्टूबर से इंटरकनेक्शन चार्जेस (आईयूसी) घटाने की घोषणा की है. इसे 14 पैसे से घटाकर छह पैसे प्रति मिनट कर दिया है. शुल्क कम होने से कॉल रेट घटना तय है.

एसबीआई ने मिनिमम बैलेंस लिमिट घटाई

एसबीआई ने बचत खातों में न्यूनतम औसत मासिक शेष (एमएबी) को 5,000 रुपये से घटाकर 3,000 रुपये कर दिया है. यह नया नियम 1 अक्टूबर से प्रभावी होगा. वहीं शहरी, अर्ध शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में मिनिमम बैलेंस की शर्त क्रमश: 3,000 रुपए, 2,000 रुपए और 1,000 रुपए पर बरकरार रहेगी.

नई कीमतों पर मिलेंगे सभी सामान
एक अक्टूबर से दुकानदार पुराने खुदरा मूल्य यानी एमआरपी पर सामान नहीं बेच सकेंगे. 30 सितंबर को सरकार की ओर से दी गई पुराने सामान बेचने की समय सीमा समाप्त हो रही है. अगर कोई पुरानी एमआरपी पर सामान बेचता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

recommend to friends

Comments (0)

Leave comment