स्वतंत्र प्रभात-आयुष में होम्योपैथ को मिले सेवा के समान अवसर व अधिकार : होम्योपैथी महासंघ  ।

 

आयुष में होम्योपैथ को मिले सेवा के समान अवसर व अधिकार : होम्योपैथी महासंघ सीसीएच की एक्जीक्यूटिव कमेटी से सेवा के अवसर हेतु ब्रिज कोर्स के समर्थन की मांग सीसीएच सचिव डॉ आशीष दत्ता ने कहा चिकित्सकों के हित में करेंगे

विचार शासकीय सेवाओं में आयुष (होम्योपैथी) चिकित्सकों को नियुक्ति में समान अवसर व अधिकारों की मांग के समर्थन हेतु होम्योपैथी चिकित्सा विकास महासंघ के आह्वान पर संगठन सचिव डॉ विष्णु शर्मा व डॉ राजेश मीणा के नेतृत्व में देश भर के प्रांतीय होम्योपैथिक संगठनों के प्रतिनिधि मंडल ने सीसीएच एक्जीक्यूटिव कमेटी से मुलाकात कर जटिलताओं के समाधान की मांग की ,

जिसपर परिषद के सचिव डॉ आशीष दत्ता ने चिकित्सकों के हित में विचार करने का आश्वासन दिया।सीसीएच सदस्य डॉ मो ज़कारिया ने रोजगार के अवसरों के मुद्दे पर चिकित्सकों का खुलकर समर्थन किया।बता दें कि आमजनता को सरलता से स्वास्थ्य सुविधाएं सुलभ कराने के उद्देश्य से आयुष चिकित्सकों को केंद्र सरकार के फार्मूले के आधार पर कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर के पद पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों एवं उप स्वास्थ्य केंद्रों पर स्थापना किया जाना है, इसके लिए विगत 22 दिसम्बर को सीसीएच अध्यक्ष डॉ रामजी सिंह ने ब्रिज कोर्स की अनुमति देने की बात कही थी।

महासंघ के राष्ट्रीय सचिव डॉ उपेन्द्र मणि त्रिपाठी का कहना है कि फार्मासिस्ट और नर्स को ट्रेनिग देकर यदि चिकित्सकीय कार्य लिया जा सकता है और होम्योपैथी चिकित्सकों को उपेक्षित किया जाता है तो प्रश्न किया जाना स्वाभाविक है। क्योंकि यदि सरकार चिकित्सकों की कमी स्वीकार करती है तो सभी मान्य चिकित्सा पद्धतियों के चिकित्सकों की सेवाएं आवश्यक रूप से ले सकती है किन्तु ब्रिज कोर्स की शर्त रखना केवल एक ही पैथी पर निर्भरता को प्रदर्शित करता है। हमने सरकार को सम्मानजनक मानदेय पर "निजी चिकित्सक -सरकारी सहयोग" के अनुबंध पर 5000 की आबादी पर एक निजी क्लिनिक में ओपीडी समय मे सरकारी सेवा का सुझाव भी दिया है।

उन्होंने नारा दिया " आयुर्वेद होम्योपैथी दोनों आयुष के अभिमान..सेवा के अवसर और अधिकार मिले समान। राजस्थान एसोसीयशन के अध्यक्ष डॉ राजेश मीणा ने कहा शिक्षा मौलिक अधिकार है सीखने पर रोक नही लगाई जा सकती।ब्रिजकोर्स पर सहमति के लिए वह राज्यसभा की स्टैंडिंग कमेटी के सदस्यों से मिलकर समर्थन की अपील कर रहे हैं।

इस अवसर पर उप्र से डॉ विष्णु शर्मा, डॉ दुष्यंत शर्मा, डॉ अमित, डॉ हिमांशु, डॉ गजराज, डॉ एमपी सिंह, डॉ उपेन्द्रमणि, डॉ दीपक सिंह डॉ मुम्बई से डॉ आनन्द, असम से डॉ मुजफ्फर रहमान, हरियाणा से डॉ संदीप, मप्र डॉ लोकेश दवे, राजस्थान से डॉ राजेश मीणा, डॉ शैलेन्द्र शर्मा, आदि होम्योपैथिक के चिकित्सकों ने स्वास्थ्य सेवाओं में सरकार से भेदभाव ना करने और सबका साथ सबका विकास की नीति को अपनाने व सभी चिकित्सकों को समान रुप से शासकीय क्षेत्र में अवसर प्रदान करने की मांग की।

ANOOP KUMAR SRIVASTAV
recommend to friends

Comments (0)

Leave comment