स्वतंत्र प्रभात-सुप्रीम कोर्ट जज विवाद को सुलझाने के लिए बार काउंसिल ऑफ इंडिया की पहल, 7 सदस्यों की टीम जजों से मिले

 

सुप्रीम कोर्ट जज विवाद पर बार काउंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) ने शनिवार को मीटिंग की।

नई दिल्ली.सुप्रीम कोर्ट जज विवाद पर बार काउंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) ने शनिवार को मीटिंग की। इसमें तय किया गया कि बीसीआई की 7 सदस्यीय टीम सीजेआई और उन चार जजों से मिलकर मामले को हल करने की कोशिश करेगी, जिन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर यह कहा था कि सुप्रीम कोर्ट में सबकुछ ठीक नहीं है। ये मुलाकात कल हो सकती है। मीटिंग के बाद बीसीआई के चेयरमैन मनन कुमार मिश्रा ने कहा- "हम चाहते हैं कि इस मामले का जल्द से जल्द हल निकल जाए।" उधर, सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की भी मीटिंग हुई।

- बीसीआई के चेयरमैन मनन कुमार मिश्रा ने कहा- "हम चाहते हैं कि इस मसले का हल जल्द से जल्द अच्छे तरीके से निकल जाए। इस मामले में हम एक लेटर सरकार को लिखेंगे। हमारा मानना है कि यह पब्लिक में लाने जैसा बड़ा मुद्दा नहीं था।"

- उन्होंने बिना नाम लिए कहा कि कोई भी पॉलिटिकल पार्टी या लीडर को इस परिस्थिति का फायदा नहीं उठाना चाहिए।"

- "बार काउंसिल ऑफ इंडिया की तरफ से मैं सभी पार्टियों से अपील करता हूं कि इस मुद्दे का राजनीतिकरण नहीं करें। हम बार की भावना से जजों को बताएंगे और उनसे अपील करेंगे कि मसले का शांतिपूर्ण और जल्द से जल्द निपटारा करें। अगर बार के सीनियर मेंबर्स की मदद की जरूरत है तो हम उसके लिए तैयार हैं।"

सरकार के रुख का स्वागत

- मनन कुमार मिश्रा ने कहा- "सरकार ने कहा था कि यह ज्युडिशियरी का अंदरूनी मामला है। सरकार के इस रुख का बार काउंसिल स्वागत करती है।" बता दें कि 4 जजों की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद सरकार ने कहा था कि यह सुप्रीम कोर्ट का अंदरूनी मामला है। हम इसमें दखल नहीं देंगे।

सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन ने कहा- मीडिया के सामने आना काफी गंभीर बात

- सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की भी शनिवार को मीटिंग हुई। एसोसिएशन के प्रेसिडेंट विकास सिंह ने कहा- "सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की पहली मीटिंग चीफ जस्टिस के साथ रखी जाएगी। अगर वो हमारे विचारों से सहमत होते हैं तो हम बाकी जजों से भी अपॉइंटमेंट लेंगे और मीटिंग फिक्स करेंगे।" 

- "हम इस मामले का जल्द से जल्द निपटारा चाहते हैं। हमारा प्रपोजल है कि अब जनहित याचिकओं के मामले सुनवाई चीफ जस्टिस को दी जाए या 5 जजों की कोलेजियम को सौंपी जाए।" 

- "हमने सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की एक इमरजेंसी मीटिंग बुलाई है। चारों जजों का खुलेआम मीडिया के सामने आना काफी गंभीर बात है।"

4 जज ने की थी प्रेस कॉन्फ्रेंस,कहा था- सुप्रीम कोर्ट में सबकुछ ठीक नहीं है

- देश के इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट के चार सीनियर जज शुक्रवार को एक साथ मीडिया के सामने आए थे। 

- जस्टिस जे चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन भीमराव लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसफ ने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट का एडमिनिस्ट्रेशन ठीक से काम नहीं कर रहा है और चीफ जस्टिस की ओर से ज्युडिशियल बेंचों को सुनवाई के लिए केस मनमाने ढंग से दिए जा रहे हैं। इससे ज्युडिशियरी के भरोसे पर दाग लग रहा है।

- उन्होंने यह भी कहा कि अगर इंस्टीट्यूशन को ठीक नहीं किया गया तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा। बता दें कि यह प्रेस कॉन्फ्रेंस 20 मिनट तक चली थी। इसमें दो जजों ने ही मीडिया के सामने बात रखी थी।

जल्द सुलझ जाएगा विवाद- AG

- अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने शनिवार को कहा, जल्द ही मामला सुलझ जाएगा। 

- इसके पहले भी शुक्रवार को उन्होंने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट के जज आपस के मतभेद सुलझा लेंगे। आज की प्रेस कॉन्फ्रेंस को टाला जा सकता था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के जज बहुत अनुभवी और जानकारी वाले हैं। मुझे पूरा भरोसा है कि कल तक पूरा मामला सुलझ जाएगा।"

recommend to friends

Comments (0)

Leave comment