स्वतंत्र प्रभात-बैंक ,दलाल के  गठजोण से बेरोजगारों को नहीं मिल रहा लोन,  बेरोजगारी अपने चरम पर

 

बेरोजगारो के साथ बैंक कर विस्वाशघात जिससे बेरोजगार कुंठा का हुआ रहे शिकार            

  गोंडा ब्यूरो पवन कुमार द्विवेदी  

       वर्तमान में बेरोजगारी की समस्या सबसे बड़ी है ,सरकार ने सबका तोड़ निकाल लिया है लेकिन बेरोजगारी की समस्या का हल खोजने में सरकारे अभी तक विफल रही है ।आरक्षण की वजह से बेरोजगारो को नौकरी मिलने में समस्या हो रही है ।वही जब कोई युवा स्वरोजगार की तरफ मुड़ना चाहता है तो उसके लिए पूंजी की समस्या काफी दिक्कतें होती है ,जब वह पूंजी के लिये बैंक के पास जाता है

तो बैंक बेरोजगारो को उसके लिए इतना दौड़ा देते है ,की उसका संमय बर्बाद होता है और वो कुंठा का शिकार हो रहा है अगर यही प्रक्रिया चलती रहती है ,सरकार व बैंको ने अपनी नीति बेरोजगारो के प्रति नही बदलेगा तो कुछ समय के बाद ऐसी भीषड समस्या पैदा होगी कि सरकारे भी नियंत्रित नही कर पायेगी ।

अधिकतर युवा उग्रवाद की तरफ भी जा सकता है ।बैंक की हरकतें व पैसा कमाने की नीति की वजह से ऐसे लोगों को लोन प्रोवाइड करती है कि जो लोग मोटा कमीसन देता है उसे लोन दे देते है वही बेचारा बेरोजगार कमीसन दे नही पाता है इसलिये उसे लोन नही मिलता है ,वर्तमान मोदी सरकार ने मुद्रा लोन बेरोजगारो ने शुरू किया था लेकिन बैंक के कर्मचारियों व दलालो के गड़झोड़ ने उन लोगो को लोन दिलवा रहे है जो लोग मोटा कमीसन देते है

उन्ही लोगो को लोन मिल  रहा है ,वही सरकार ने जिन बेरोजगारो के लिए यह योजना शुरू की थी उनके पास कमीसन देने के लिए पैसे न होने के कारण उन्हें लोन नही मिलता है ।बैंक के लोगो व दलालो के गड़जोड़ से सरकार की इस योजना की हवा निकालने में कोई कसर नही छोड़ रहे है ,

सरकार ने इस तरफ ध्यान नही दिया कुछ समय बाद बैंको में फिर घोटाले की खबर आएगी ,वही सरकार भी बदनाम होगी और बेरोजगारो का भी कोई भला नही होगा ।

PAWAN KUMAR DWIVEDI
recommend to friends

Comments (0)

Leave comment