स्वतंत्र प्रभात-कम लागत में अधिक उत्पादन पर हो जोर: श्री पी.के.विश्वाल

 

भारत सरकार की मिनी रत्न कंपनी नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) में सोमवार को राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस के अवसर पर ‘राष्ट्रीय उत्पादकता सप्ताह’ का शुभारंभ हुआ।

कंपनी मुख्यालय में एनसीएल के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक के तकनीकी सचिव श्री पी.के.विश्वाल ने बतौर मुख्य अतिथि ध्वजारोहण कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया तथा अधिकारियों-कर्मचारियों को उत्पादकता शपथ दिलाई।18 फरवरी तक चलने वाले राष्ट्रीय उत्पादकता सप्ताह का विषयवस्तु इस वर्ष ‘उद्योग 4.0 भारत के लिए आगे बढ़ने का अवसर’ रखा गया है।

कंपनी के अधिकारियों-कर्मचारियों ने राष्ट्रीय उत्पादकता सप्ताह के इस वर्ष के विषयवस्तु को सार्थक करने और देश की समृद्धि में योगदान देने हेतु सतत प्रयत्नशील रहने की शपथ ली। साथ ही,

उन्होंने यह शपथ भी ली कि वे अपने कार्यस्थल पर सुरक्षा के साथ उत्पादन एवं उत्पादकता के अभिवृद्धि के प्रति जागरूक रहेंगे और अपने सहकर्मियों को भी इसके प्रति प्रोत्साहित करेंगे ताकि कंपनी की उन्नति, समाज का जीवन स्तर और राष्ट्र की समृद्धि सुनिश्चित हो। कार्यक्रम में अपने उद्बोधन में मुख्य अतिथि श्री विश्वाल ने कहा कि उत्पादकता सप्ताह मनाने का मुख्य लक्ष्य लोगों में इसके प्रति जागरूकता पैदा करना है,

ताकि कम लागत में अधिक से अधिक उत्पादन किया जा सके। उन्होंने कहा कि आज वैश्वीकरण और स्पर्धा के इस युग में हमें उत्पादन के साथ-साथ इसमें लगने वाले सभी संसाधनों का समुचित उपयोग सुनिश्चित करना होगा। इसके लिए हमें अपनी मशीनों के उचित रख-रखाव के साथ अधिकतम उपयोग करना होगा और उत्पादन लागत में कमी लानी होगी।

हम इस दिशा में तेजी से बढ़ रहे हैं और चालू वित्त वर्ष में एनसीएल ने अब तक लगभग 79 मिलियन टन कोयले का उत्पादन कर लिया है, जो पिछले वर्ष की समान अवधि में किए गए कोयला उत्पादन से लगभग 9 मिलियन टन अधिक है। इसी तरह, कंपनी का कोयला प्रेषण भी पिछले वित्त वर्ष की समान अविध के मुकाबले लगभग 11.68 मिलियन टन अधिक है।

गौरतलब है कि इस वर्ष उत्पादकता सप्ताह के विषयवस्तु ‘उद्योग 4.0 भारत के लिए आगे बढ़ने का अवसर’ का मकसद परंपरागत एवं आधुनिक तकनीकों का आपस में समावेश कर उप्तादन एवं उत्पादकता को बढ़ावा दिए जाने पर जोर देना है।

इसमें वास्तविक और आभासी दुनिया की तकनीकों का आपसी समन्वय भी शामिल है ताकि समाज एवं राष्ट्र का सतत और समावेशी विकास सुनिश्चित किया जा सके। इसी कड़ी में 17 फरवरी को एनसीएल मुख्यालय के केंद्रीय उत्खनन प्रशिक्षण संस्थान (सी.ई.टी.आई.) में एक सेमिनार भी रखा गया है, जिसमें कंपनी के अधिकारी-कर्मचारी उत्पादकता बढ़ाए जाने हेतु विभिन्न विषयों पर अपने प्रेजेंटेशन एवं विचार शेयर करेंगे।

राष्ट्रीय उत्पादकता सप्ताह से जुड़े कार्यक्रमों को संपन्न कराने में महाप्रबंधक श्री मिथिलेश कुमार की अगुआई में एनसीएल के औद्योगिक अभियांत्रिकी विभाग (आईईडी) की टीम सक्रिय रूप से कार्य कर रही है। कंपनी के सभी कोयला क्षेत्रों एवं इकाइयों में भी इस सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है और विभिन्न कार्यक्रमों के जरिये कंपनी की उत्पादकता बढ़ाए जाने के प्रति कर्मियों को प्रेरित किया जा रहा है।

PREM NIVASH
recommend to friends

Comments (0)

Leave comment