भगवान की भक्ति दिल मे उतारना ही सबसे बड़ा पुरुषार्थ-गुप्तेश्वर महाराज

 भगवान की भक्ति का सहारा मनुष्य के लिए अत्यंत आवश्यक है
 
भगवान की भक्ति दिल मे उतारना ही सबसे बड़ा पुरुषार्थ-गुप्तेश्वर महाराज
इस घोर कलयुग में भगवान का भजन भगवान का कीर्तन और भक्ति ही वह नशा है

शाहजहांपुर-जलालाबाद।आयोजित श्रीमद् भागवत कथा में कथावाचक भाई श्री गुप्तेश्वर महाराज जी ने कहा कि भगवान की भक्ति यदि आपके हृदय में उतर गई तो इससे बड़ा कोई पुरुषार्थ जीवन में नहीं है काम क्रोध मद लोभ को छोड़ने का सबसे सरल तरीका है कि श्रीमद् भागवत एवं संत महापुरुषों की संगत और उनके विचारों को सुनें और अमल में लाएं इस घोर कलयुग में भगवान का भजन भगवान का कीर्तन और भक्ति ही वह नशा है

कि हर पाप को नाश करने के लिए भगवान की भक्ति का सहारा मनुष्य के लिए अत्यंत आवश्यक है मन में भक्ति और वैराग्य जगाना है तो भागवत कथा और सत्संग में पहुंचे और सच्चे मन से भगवान की कथा का वर्णन सुने भगवान की भक्ति मन में प्रवाहित होने पर मन को भगवान के प्रति समर्पित करने में मनुष्य तनिक भी विलंब नहीं करता है ईश्वर ही सृष्टि को चलाता है । भारतीय जनता पार्टी के जिला उपाध्यक्ष कृष्ण कुमार मंगलम द्वारा आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन इन दिनों कोला मोड़ पर किया जा रहा है इसे सुनने के लिए प्रतिदिन सैकड़ों की संख्या में भक्त पहुंच रहे हैं

बिहार से पधारे कथावाचक भाई श्री गुप्तेश्वर महाराज जी ने उपस्थित भक्तों को भगवान की कथा सुनाते हुए कहा की सृष्टि को चलाने वाला भगवान हर व्यक्ति का ध्यान रखता है हर व्यक्ति पर नजर रखता है शास्त्रों का सार भी श्रीमद्भागवत गीता में ही है भगवान अपने भक्तों का सदैव ख्याल रखते हैं सच्ची श्रद्धा और निष्ठा के साथ भगवान की भक्ति करने वाला मनुष्य इस दुनिया के सभी पापों से मुक्त होकर अंत को मोक्ष को प्राप्त होता है

23 तारीख से 30 नवंबर तक चलने वाली यह भागवत कथा हमें दूरदराज से रोजाना सैकड़ों भक्त पहुंच रहे हैं कथा कहने वाले भाई श्री गुप्तेश्वर जी महाराज की वाणी से निकलने वाले शब्दों को सुनकर भक्त भावविभोर हो उठे इस मौके पर कृष्ण कुमार मंगलम गंगा प्रसाद वैद्य डॉ अनुराग गुप्ता अनूप गुप्ता हर्षित गुप्ता निखिल गुप्ता विकास चंद्र गुप्ता विशाल गुप्ता सहित भारी संख्या में भक्त उपस्थित रहे अंत में आरती कर प्रसाद वितरित किया गया ।

FROM AROUND THE WEB