अपने मन का संशय दूर करने के लिए केवट ने धुले भगवान के चरण

निर्देशक शिवकुमार गुप्ता ने अपनी सुंदर प्रस्तुति से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।
 
 निर्देशक शिवकुमार गुप्ता ने अपनी सुंदर प्रस्तुति से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

 स्वतंत्र प्रभात 
  निर्देशक शिवकुमार गुप्ता ने अपनी सुंदर प्रस्तुति से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

प्रयागराज फूलपुर तहसील क्षेत्र अंतर्गत बाबूगंज बाजार में चल रहे ऐतिहासिक रामलीला के मंचन में केवट ने अपनी नाव से भगवान को पार लगाया। सोमवार को आयोजित रामलीला मंचन में केवट का अभिनय कर रहे रामलीला के निर्देशक शिवकुमार गुप्ता ने अपनी सुंदर प्रस्तुति से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

 इसी क्रम में भगवान श्रीराम जब गंगा जी के किनारे पर पहुंचे तो गंगा नदी को पार करने के लिए केवट से कहने लगे तब केवट ने उनकी बात सुनकर कहा कि प्रभु मेरे मन में एक संशय है। भगवान राम ने कहा कि तुम्हारे मन में जो भी संशय है तुम अपने मन के संशय को दूर करो। 


तब केवट ने उनके चरण को धुलकर चरणामृत का पान करते हुए भगवान राम, लक्ष्मण व माता सीता को अपनी नौका में सवार कर लियाऔर नाव से पार लगाया। आगे  सीता हरण का दृश्य दिखाया गया जिसमें सीता जी का हरण होने पर भगवान राम व लक्ष्मण ने बहुत खोज की लेकिन सीता नहीं मिली ।

 भगवान राम के किरदार में शिवम् शुक्ला, लक्ष्मण के किरदार में अमन शुक्ला, सीता के किरदार में शक्ति शुक्ला, केवट के किरदार में शिवकुमार गुप्ता, रावण के किरदार में दिलीप जायसवाल, अध्यक्ष राजकुमार मोदनवाल, दीपक जायसवाल, निर्देशक राजेंद्र कुमार पटेल, मोनू साहू, उपमंत्री नीरज जायसवाल, गौरव जायसवाल, भारत लाल जायसवाल, वीरेंद्र जायसवाल, देवकांत पाण्डेय, सुरेश केसरवानी, सहित कमेटी के पदाधिकारियों सहित भारी संख्या में दर्शकों की उपस्थिति रही।

FROM AROUND THE WEB