मुस्लिम लड़की से प्रेम करने पर लड़के को उतारा मौत के घाट

गुजरात के राजकोट में दिल को दहला देने वाली घटना सामने आयी 
 
गुजरात के राजकोट में दिल को दहला देने वाली घटना सामने आयी

स्वतंत्र प्रभात-

गुजरात (राजकोट)

में हैवानियत की सारी हदे पार। जहा एक 22 वर्षीय लड़के की प्रेम कहानी का अंत उसकी हत्या के साथ हुआ। लड़की (सुमैया) के भाई और परिवार के सदस्यों ने पीड़ित लड़के (मिथुन ठाकुर) को बेरहमी से मार डाला।

अभी हैदराबाद में दूसरे धर्म की लड़की से शादी करने पर नागराजू की बेरहमी से पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी। यह मामला अभी भी शांत नहीं हुआ था कि अब गुजरात के राजकोट में एक दिल को दहला देने वाली घटना सामने आई है। यहां एक 22 वर्षीय लड़के की प्रेम कहानी का अंत भी उसकी हत्या के साथ हुआ। सुमैया के भाई और परिवार के सदस्यों ने मिथुन ठाकुर को बेरहमी से मार डाला। सुमैया को जब पता चला की उसके भाई और परिजनो ने उसके प्रेमी को पीट-पीट कर मार डाला तो उसने अपने हाथ की नस काट ली। लेकिन, उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां वो खतरे से बाहर है।  

पास की फैक्ट्री में काम करने वाले बिहार के मूल निवासी मिथुन ठाकुर और 18 साल की लड़की सुमैया कादिवार पिछले कुछ महीनों से प्रेमसंबंध में थे। वे जंगलेश्वर मेन रोड स्थित राधा कृष्ण सोसाइटी में उसी मोहल्ले में रहते थे। इसी बीच दोनों एक दूसरे के संपर्क में आ गए। उनका प्यार दिन प्रतिदिन बढ़ता गया और उन्होंने शादी करने का निर्णय किया।

घर में घुसकर बेरहमी से पीटा

सोमवार के दिन मिथुन ठाकुर ने सुबह करीब 10 बजे सुमैया को उसके मोबाइल फोन पर कॉल किया लेकिन उसके भाई साकिर ने कॉल का जवाब दिया। उसने ठाकुर को जान से मरने धमकी दी और दोनों के बीच ज़ोरो से बहस छिड़ गई। साकिर उसे सुमैया को छोड़ने और उस से दूर रहने की धमकी दे रहा था।

पीड़ित को बेहोश देखकर पड़ोसी ने अस्पताल पहुंचाया 

घटना के दिन साकिर और तीन अज्ञात व्यक्ति मिथुन के घर गए और उसकी बेरहमी और क्रूरता से पीटा। पड़ोसियों में से एक ने उसे घर में बेहोश पड़ा देखा और उसे राजकोट सिविल अस्पताल ले गया, जहां से उसे गंभीर चोटों और ब्रेन हेमरेज के साथ अहमदाबाद रेफर कर दिया गया। पीड़ित ने बुधवार को अहमदाबाद के सिविल अस्पताल में दम तोड़ दिया।

बुधवार को सुमैया को जब पता चला की उसके प्रेमी की मृत्यु हो गई 

तो उसने भी कलाई काट कर आत्महत्या करने का प्रयास किया। बुधवार को सुमैया को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां पूरी घटना का पता चला।

साकिर को प्रशासन ने गरिरफ्तार किया

सुमैया के माता-पिता तलाक हो चूका हैं और उसकी मां भी एक निजी कंपनी में मजदूरी करती है। मिथुन ठाकुर और उसके पिता बिपिन राजकोट में रहते थे और एक कारखाने में काम करते थे। भक्तिनगर पुलिस स्टेशन के निरीक्षक एलएल चावड़ा ने कहा, “हमने पीड़िता के पिता की शिकायत पर साकिर और उसके एक साथी को गिरफ्तार किया है।

FROM AROUND THE WEB