महज नौ हजार के लिए राहुल शर्मा की हुए थी हत्या

पुलिस ने दो अभियुक्तों को गिरफ्तार कर मामले का किया खुलासा। 
 
पुलिस ने दो अभियुक्तों को गिरफ्तार कर मामले का किया खुलासा। 

 

स्वतंत्र प्रभात-

लंभुआ / सुल्तानपुर :-

कामतागंज बैंक फ्रेंचाइजी संचालक राहुल शर्मा की हत्या का पुलिस ने खुलासा किया है। जिसमें दो अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। नौ हजार रूपए के लिए हत्यारों ने राहुल की हत्या की थी।

     बताते चलें कि भरथीपुर थाना कोतवाली देहात निवासी राहुल शर्मा कामतागंज बाजार में बैंक मित्र का काम करता था। जिसकी 28 जुलाई को चांदा थाना क्षेत्र के छतौना कला जंगल में लाश मिली थी। जांच करते हुए पुलिस अधीक्षक सोमेन वर्मा के निर्देशन में टीमों का गठन करके पुलिस ने जांच करते हुए दो अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। जिसमें पिंटू उर्फ तेज बहादुर तिवारी पुत्र मुनिराज तिवारी निवासी ग्राम गौरा थाना चांदा तथा नंदलाल निषाद पुत्र राम अवध निषाद निवासी छतौना कला को हिरासत में लिया है। अपर पुलिस अधीक्षक विपुल श्रीवास्तव ने मीडिया से मुखातिब होते हुए बताया कि अभियुक्त पिंटू उर्फ तेज बहादुर तिवारी ने बताया भरथीपुर के रहने वाले राहुल शर्मा जो कि कामतागंज बाजार में बैंकिंग सेवा संचालन करते थे 

उनसे मेरी कुछ दिनों से दोस्ती हो गई थी राहुल शर्मा अक्सर मेरे साथ मेरी बहन के यहां आया जाया करते थे तथा रुकते भी थे, उसके द्वारा बैंकिंग सेवा केंद्र पर रोजाना किए जा रहे रुपयों के लेन-देन से मेरी नियत खराब हो गई । मैंने योजना बनाया की क्यों ना बहला कर इसकी हत्या कर पैसे लूट लिया जाए। जिसके बाद मैंने नंदलाल निषाद व संजय निषाद उर्फ सिपाही पुत्र सत्यनारायण निषाद निवासी ग्राम छतौना कला थाना चांदा के साथ मिलकर किसी बहाने से राहुल शर्मा को उसके बैंकिंग सेवा केंद्र से 26 जुलाई की शाम बहका कर उसकी मोटरसाइकिल से हम दोनों छतौना कला जंगल में एकपता वीर बाबा के मंदिर के पीछे बांध के पास पहुंचे, जहां पर नंदलाल निषाद व संजय निषाद उर्फ सिपाही जो शराब लेकर पहले से मौजूद थे।

वहां पहुंचकर मैंने शराब कम पी थी किंतु राहुल शर्मा को अधिक पिलाया। जब अत्यधिक नशे में हो गया तो हम तीनों ने मिलकर बेल्ट व गमछे से उसका गला घोटकर राहुल शर्मा की हत्या कर दी और उसके पास मौजूद ₹9000 तथा मोबाइल ले लिए रुपयों को हम तीनों ने बाद में बराबर बराबर आपस में बांट लिए राहुल शर्मा की हत्या के बाद हम तीनों मौके से भाग निकले। उसके बाद अलग अलग हो गए राहुल शर्मा की मोटरसाइकिल तथा उसकी मोबाइल उसी रात में सुल्तानपुर से आगे लखनऊ रोड के समीप असरोगा टोल के पास एक चाय की दुकान के पास चाबी सहित खड़ी करके उसके दोनों मोबाइल फोन उसकी मोटरसाइकिल की डिक्की में रखकर इसलिए मौके से फरार हो गए कि लालच में आकर कोई व्यक्ति राहुल शर्मा की मोटरसाइकिल व मोबाइल आ जाएगा तो राहुल शर्मा की हत्या के जुर्म में फंस जाएगा और हम लोग साफ-साफ जाएंगे अभियुक्त ने बताया कि ₹1800 बरामद किया है वह राहुल शर्मा की हत्या के बंटवारे में 3000 रुपए में से खर्च के बाद बचे हुए हैं तथा अभियुक्त नंदलाल के पास 13 सो रुपए बरामद हुए हैं। 

   हत्यारों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है

   

FROM AROUND THE WEB