हादसे में लोडर चालक की मौत के बाद मिले रुपए को पुलिस ने चालक के भाई को लौटाया

लोडर को सड़क से हटाकर शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा।
 
लोडर को सड़क से हटाकर शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

स्वतंत्र प्रभात 


उन्नाव। लखनऊ-कानपुर हाईवे पर सोमवार रात अज्ञात वाहन ने लोडर को टक्कर मार दी थी। हादसे में लोडर चालक की मौत हो गई थी। जांच के दौरान पुलिस को लोडर में रखे बैग में 1.57 लाख रुपये मिले। तस्दीक के बाद पुलिस ने मृतक के भाई और कानपुर के सोयाबीन कारोबारी को रुपये लौटा दिए। कानपुर के पशुपति नगर निवासी 35 वर्षीय आलोक पुत्र राजेंद्र गुप्ता लोडर चलाकर परिवार का गुजारा चलाता था। 

मंगलवार को वह कानपुर के लालबंगला निवासी सोयाबीन कारोबारी महेंद्र गुप्ता का माल फैजाबाद जिला में उतारकर घर लौट रहा था। रात 12 बजे लखनऊ-कानपुर हाईवे पर शिवसिंहखेड़ा गांव के पास अज्ञात वाहन ने लोडर को टक्कर मार दी। हादसे में आलोक की मौके पर मौत हो गई। ललऊखेड़ा चौकी प्रभारी हसमत अली पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और क्षतिग्रस्त लोडर को सड़क से हटाकर शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा।


 जांच के दौरान लोडर में रखे बैग में चौकी प्रभारी को 1.57 लाख रुपये मिले। उन्होंने मृतक के भाई विकास गुप्ता व बहनोई मनोज गुप्ता को रुपये मिलने की जानकारी दी। बहनोई व भाई विकास के साथ कारोबारी महेंद्र गुप्ता मौके पर पहुंचे और बताया कि आलोक फैजाबाद माल लेकर गया था। माल बिक्री के तीन लाख रुपये हुए थे। 1.57 लाख रुपये नगद आलोक को मिले थे। शेष रुपये उसने खाते में ऑनलाइन मंगवा लिए थे। 


कारोबारी व मृतक के भाई से मामले की जानकारी लेकर पुलिस ने रुपये गिनवाकर उनके सुपुर्द कर दिए। उधर, भाई की मौत से विकास बेहाल हो गया। पोस्टमार्टम के बाद वह शव लेकर घर चला गया।

FROM AROUND THE WEB