लाइनमैन द्वारा किसान अवैध वसूली करने का वीडियो सोशल मीडिया पर हो रहा वायरल

 
लाइनमैन द्वारा किसान अवैध वसूली करने का वीडियो सोशल मीडिया पर हो रहा वायरल

स्वतंत्र प्रभात

विद्युत केंद्र पर तैनात दो संविदा लाइनमैन का पांच हजार रूपए की रिश्वत लेने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने पर सोमवार को उपखंड अधिकारी कुमारगंज सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो का जांच करने के दिए निर्देश दिया है। जांच के बाद कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी।

मिल्कीपुर तहसील क्षेत्र के विद्युत उप केंद्र अमानीगंज के 33/11 केवी के उपकेंद्र पर आरोपी लाइनमैन जुनेद वा अमित शर्मा कार्यरत है। खंडासा थाना क्षेत्र के धरौली गांव निवासी एक किसान अपने खेत में विद्युत मोटर लगाया हुआ था मौके पर पहुंचे संविदा लाइनमैन जुनेद वा अमित शर्मा ने मोटर को पकड़ लिया मोटर छोड़ने के एवज में किसान से मोटी रकम की मांग की।

जिसके चलते किसान मौके पर पैसा नहीं दे सका तो लाइनमैन किसान का विद्युत मोटर लेकर चला गया था। किसान के काफी विनती करने के बाद लाइनमैन पांच हजार रुपए पर मोटर छोड़ने की बात कही किसान करजा उधारी से पांच हजार रूपए लेकर खंडासा बाजार गया जहां पर एक दुकान पर बैठ उपरोक्त लाइनमैन को दिया। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसी तरीके से क्षेत्र में काफी किसानों से मोटी रकम की वसूली कर चुके हैं ।सोमवार को वीडियो वायरल होने के बाद मामले ने तूल पकड़ लिया ।

 दो माह पूर्व खंडासा क्षेत्र के भीखी का पुरवा गांव की विद्युत लाइन ठीक करने के नाम पर ग्रामीणों से पैसे की मांग की ग्रामीणों ने जब इसका विरोध किया तो लाइट ठीक न करने की धमकी देते हुए ग्रामीणों से अभद्रता किया था।

जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था भीखी का पुरवा गांव के लोग लाइनमैन के खिलाफ देर रात तक बहादुरगंज से अमानीगंज मार्ग को जाम कर दिया था मामले की जानकारी मिलने के बाद विद्युत विभाग के उच्च अधिकारियों ने आनन-फानन मौके पर पहुंचकर में विद्युत लाइन ठीक करवाया तब जाकर ग्रामीण रोड से हटे थे। अवैध वसूली तथा उपभोक्ताओं से अभद्रता करने का मामला लगातार सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद भी संबंधित अधिकारी कार्रवाई नहीं कर पा रहे जिसके चलते उक्त लाइनमैन के हौसले बुलंद हैं।

 उपखंड अधिकारी विद्युत कुमारगंज संतोष कुमार ने बताया कि सोशल मीडिया के माध्यम से घटनाक्रम की जानकारी मिली है मामले की जांच कराई जा रही है। यदि पीड़ित द्वारा शिकायती प्रार्थना पत्र दिया जाएगा तो विभागीय कठोर कार्यवाही दोषियों के खिलाफ की जाएगी।

FROM AROUND THE WEB