तालाब की भूमि पर की जा रही खेती तहसील प्रशासन रोकने में नाकाम

तालाब की भूमि पर लहलहा रही है धान की फसल

 
तालाब की भूमि पर की जा रही खेती तहसील प्रशासन रोकने में नाकाम
उक्त तालाब पर विगत कई वर्षों से खेती की जा रही है।

स्वतंत्र प्रभात 
रामसनेही घाट बाराबंकी।

माननीय उच्चन्यायालय व  मुख्यमंत्री के आदेश व निर्देश के बाद भी तहसील प्रशासन द्वारा तालाब की भूमि पर की जा रही खेती लेकिन तहसील प्रशासन ने नहीं की कोई कार्रवाई। मिली जानकारी के मुताबिक तहसील क्षेत्र के अंतर्गत बनीकोडर ग्राम के अंतर्गत पूरे आधार पुरवा की तालाब गाटा संख्या 260 जो लगभग 16 बीघा दर्ज खतौनी है। उक्त तालाब पर विगत कई वर्षों से खेती की जा रही है।

ग्रामीणों ने इस सम्बंध में कई बार शिकायत की किन्तु तहसील प्रशासन द्वारा कोई भी जांच व कार्यवाही करना मुनासिब नही समझा । जबकि उच्च न्यायालय द्वारा तालाबो के अतिक्रमण पर सख्त आदेश दे रखा है कि अगर तालाब पर मकान दुकान अथवा खेती की जा रही हो उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही करते हुए 1956 की स्थित बहाल की जाय अर्थाथ तालाब को पटाया गया है तो उसे उसी तरह खुदाई कराई जाये । 

दूसरी तरफ प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा सरकारी भूमि पर अतिक्रमण हटाने के सख्त आदेश दे रखे हैं परन्तु तहसील प्रशासन व राजस्व कर्मचारी द्वारा विगत कई वर्षो से उक्त तालाब को पाट कर  खेती की जा रही है पर अभी तक बेदखल व कार्यवाही नहीं कर सका है । यही नहीं ग्रामीणों ने बताया कि अगर उक्त तालाब की शिकायत की जाती है तो रामफेर सुन्दर ,कैलाश पुत्र रामचरन द्वारा अनुसूचितजाति अधिनियम में फर्जी मुकदमा दर्ज कराने की धमकी भी देता है। 

     आश्चर्यजनक तो यह है कि  उच्च न्यायालय व प्रदेश के मुख्यमंत्री के निर्देश के बावजूद भी तालाबो व सरकारी जमीनों पर अतिक्रमण नहीं हटा पा रहा है ,हिंचलाल बनाम कमलादेवी के मामले में माननीय उच्चन्यायालय द्वारा स्पस्ट आदेश दिए है और मुख्यमंत्री द्वारा भी सरकारी भूमि से अतिक्रमण हटाने के आदेश भी हैं 

फिर भी तहसील प्रशासन द्वारा सरकारी जमीनों पर कब्जा जमाए लोगो के विरुद्ध कोई भी कार्यवाही न किया जाना उच्चन्यायालय व मुख्यमंत्री द्वारा दिये गए आदेश को दरकिनार किया जा रहा है और पूरे गाटा संख्या पर खेती होना राजस्व कर्मचारियों की मिलीभगत उजागर हो रही है ।केस सम्बन्ध में तहसीलदार दयाशंकर त्रिपाठी ने जरिये मोबाइल पर कहा कि हमें जानकारी नहीं है कि तालाब की गाटा संख्या पर खेती हो रही है।

*नहीं उठ सका सीयूजी नंबर*
इस संबंध में जब तहसीलदार तथा एसडीएम से जानकारी करनी चाहिए तो उनका फोन नहीं उठ सका।

FROM AROUND THE WEB