चुनाव नजदीक आते ही दल बदलू नेताओं मे दल बदलने को लेकर मची होड़

 
चुनाव नजदीक आते ही दल बदलू नेताओं मे दल बदलने को लेकर मची होड़

स्वतंत्र प्रभात 

उत्तर प्रदेश( ब्यंग ): 2022 का विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही दल बदलू नेताओं मे भी दल बदलने की होड़ मच गई है.जहाँ दल बदलू नेताओं की नजर पार्टियों पर है वहीँ पार्टियां भी दल बदलुओं के सम्मान मे पलके बिछाये खड़े हैं और हो भी क्यों ना आखिर उनकी पार्टी का कद भी तो बढ़ रहा है तो ऐसे मे पार्टियों की नजर भी दल बदलुओं को पकड़ने पर टिकी है.शोशल मीडिया मे तो आजकल बीजेपी के बड़े नेता कांग्रेस और सपा के बड़े नेता को पार्टी ज्वाइन करवाने की बात कह रहे हैं

परन्तु किस प्रदेश के नेता को पार्टी मे लाएंगे ये तो उन्होंने कहा ही नही.खामखा मे विपक्षी पार्टी के माथे पर बल जरूर ला दिया.अब विपक्षी नेताओं की भी खामखा की दौड़ दिल्ली हाई कमान मे लग रहीं है.बेचारे उस बीजेपी नेता को कोस रहे होंगे जिसने इतना बड़ा ट्वीट कर उत्तराखंड की राजनीती मे खामखा मे भूचाल ला दिया. 

खैर हम तो दल बदलू नेताओं की महिमा मंडन की बात कर रहे थे जो चुनाव आते ही मेढक की तरह फुदक कर दूसरी जगह पर चले जाते हैं.मुर्ख बनती है तो सिर्फ और सिर्फ बेचारी जनता जिसने कुछ अलग करने और क्षेत्र के विकास को लेकर अपना बहुमूल्य वोट इन दलबदलू नेताओं को दिया था परन्तु इन नेताओं ने तो जैसे जनता को ठेंगा दिखाने की  कसम ही खा रखी है.अभी इस पार्टी से मुझे जिता दो पसंद ना आने पर मै दल बदल दूंगा.कुछ नेता तो ऐसे भी देखे गए हैं जो बहुत ही बड़े ओहदे पर होने के बावजूद दल बदल हो गए.अब ऐसे नेताओं से जनता क्या विकास करवाएगी जिनका अपना ही लोता - धोता नही है. 

वैसे जनता समझदार हो गई है अब वो सब जानती है कौन अपने मतलब के लिए कहाँ दल बदल हो रहा है.चुनाव भी नजदीक ही हैं अब देखना यह होगा इन  दल बदल नेताओं को जनता क्या सबक सिखाती है.अभी के लिए इतना ही आगे भी आपका ज्ञानवर्धन करते रहेंगे.तब तक नेताओं का ड्रामा देखते रहिये.

FROM AROUND THE WEB