कांग्रेस पार्टी आलाकमान सुरजेवाला पर मेहरबान, हाईकमान में निरंतर बढ़ रहा है रुतबा

कांग्रेस पार्टी आलाकमान सुरजेवाला पर मेहरबान, हाईकमान में निरंतर बढ़ रहा है रुतबा

सिवानी मण्डी ( सुरेन्द्र गिल ) कांग्रेस के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुर्जेवाला का रुतबा लगातार कांग्रेस हाईकमान में बढ़ता जा रहा है। देश के 5 राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस हाईकमान द्वारा गठित की गई स्टार प्रचारकों की फेहरिस्त में रणदीप सुर्जेवाला का नाम सभी चुनावी राज्यों में शामिल किए जाने से सुर्जेवाला के प्रति जहां गांधी परिवार का विश्वास और मजबूत हुआ है तो वहीं राष्ट्र स्तर पर कांग्रेस में हरियाणा के इस युवा नेता का राजनीतिक कद भी बढ़ा है। 

             गौरतलब है कि कांग्रेस में राष्ट्रीय स्तर पर मीडिया प्रभारी के तौर पर अपनी एक अलग पहचान बनाने वाले रणदीप सिंह सुर्जेवाला ने पिछले लगभग 4 वर्षों में कांग्रेस के विपक्ष में रहते हुए भाजपा सरकार को विभिन्न मुद्दों पर घेरने के साथ-साथ जहां कांग्रेस के लिए एक अच्छे प्रचारक की भूमिका निभाई, वहीं  अनेक विकट परिस्थितियों में भी अपने राजनीतिक कौशल को साबित करते हुए कांग्रेस पार्टी की प्रभावी पैरवी कर कांग्रेस की छवि निखारने के साथ सोनिया व राहुल गांधी का दिल जीता। यही वजह रही कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा उन्हें निरंतर अहम जिम्मेदारियां देकर उनकी योग्यता को पुख्ता किया। 
                   सुरजेवाला को राजनीति विरासत में मिली उनके इनके पिता का नाम शमशेर सिंह सुरजेवाला है। इनके पिता शमशेर सिंह सुरजेवाला 1967, 1977, 1982, 1991 और 2005 में हरियाणा विधानसभा में रहे, जबकि 1993 में वह संसद सदस्य रहे। रणदीप ने महज 21 वर्ष की आयु में दिल्ली की एक वकालत फर्म श्रॉफ एंड कंपनी से शुरू की, फिर 1991 से पंजाब व हरियाणा उच्च न्यायालय में वकालत की। उन्होंने 6 बार हरियाणा विधानसभा के लिए चुनाव लड़े।

                  1993 उप चुनाव, 1996, 2000, 2005, 2009 व 2014 में। 1996 और 2005 चुनावों में उन्होंने ओम प्रकाश चौटाला को हराया, जो तत्कालीन मुख्यमंत्री थे। 2014 के चुनावों में कांग्रेस प्रदेश में निराशाजनक प्रदर्शन करते हुए तीसरे स्थान पर रही, लेकिन रणदीप अपनी सीट से फिर से निर्वाचित हुए। मार्च 2005 में रणदीप को यातायात व नागरिक उड्डयन, जन निर्माण विभाग (जलापूर्ति व सैनीटेशन) और संसदीय कार्यों के विभाग देते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने इन्हें हरियाणा के सबसे कम उम्र के कैबिनेट मंत्री बनाया।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments