2 करोड़ के वार्षिक टर्न ओवर करने वाले व्यापारियों को वार्षिक रिटर्न भरने में मिली छूट  

2 करोड़ के वार्षिक टर्न ओवर करने वाले व्यापारियों को वार्षिक रिटर्न भरने में मिली छूट  

2 करोड़ के वार्षिक टर्न ओवर करने वाले व्यापारियों को वार्षिक रिटर्न भरने में मिली छूट  
व्यापारियों व कर सलाहकारों को काम के बोझ में मिली है राहत : पंकज वर्मा

बाल्मीकि वर्मा (लोकेश कुमार शर्मा

(स्वतंत्र प्रभात)
गुरुग्राम (हरियाणा) :-

 केंद्र सरकार ने 2 करोड़ रुपए के वार्षिक टर्न ओवर का व्यापार करने वाले व्यापारियों को वित्तीय वर्ष 2017-18 व 2018-19 के लिए गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) की वार्षिक रिटर्न भरने में छूट दे दी है। व्यापारी काफी समय से इसकी मांग करते आ रहे थे।

कर सलाहकार पंकज वर्मा ने बताया कि गत सप्ताह वित्त मंत्रालय की गोवा में जीएसटी को लेकर बैठक का आयोजन किया गया था, जिसमें व्यापारियों को राहत देने के आदेश जारी किए गए हैं। वित्त मंत्रालय ने भी अपने आदेशों में कहा है कि जिन व्यापारियों का वार्षिक टर्न ओवर का व्यापार 2 करोड़ रुपए से ऊपर है, उन्हें भी जीएसटी की वार्षिक रिटर्न अनिवार्य रुप से भरनी होगी और जिन कारोबारियों का व्यापार वार्षिक टर्न ओवर 2 करोड़ रुपए से कम है उनके लिए विकल्प खुला है कि वे चाहें

तो वार्षिक रिटर्न फाइल करें अथवा चाहे तो न करें। उन पर किसी प्रकार की कोई पैनल्टी नहीं लगाई जाएगी। कर सलाहकार ने और अधिक स्पष्ट करते हुए कहा कि अपनी इच्छानुसार रिटर्न फाइल करने का विकल्प इसलिए दिया गया है कि यदि किसी की मासिक रिटर्न में कोई त्रुटि रह गई है तो वह इसे वार्षिक रिटर्न में सुधार सकें।

जिनके रिटर्न में कोई त्रुटि नहीं है तो वे चाहें तो वार्षिक रिटर्न फाइल न करें। उनका कहना है कि इससे व्यापारियों व कर सलाहकारों को काम के बोझ में काफी राहत मिली है।

Comments