शुक्र का राशि परिवर्तन हो सकते है कई बड़े बदलाव

शुक्र का राशि परिवर्तन हो सकते है कई बड़े बदलाव

शुक्र का राशि परिवर्तन

 

शुक्र ग्रह का राशि स्थानांतरित 9 सितंबर की रात्रि 1 बजकर 40 मिनट पर सिंह राशि की यात्रा पूर्ण करके कन्या राशि में प्रवेश कर रहे हैं, जहां ये 3 अक्टूबर की मध्यरात्रि पश्चात 5 बजकर 13 मिनट तक रहेंगे। शुक्र वृषभ और तुला राशि के स्वामी हैं मीन राशि इनकी उच्चराशि होती है तथा मीन राशि से सातवीं कन्या राशि नीच राशि होती है।

कुंडली ज्योतिष में शुक्र विलासिता संबंधित सुखों, उत्तम स्वास्थ्य, बड़े डॉक्टर, महाप्रबंधक, भारी उद्योग, समुद्री वस्तुओं के व्यापार, खाद्य पदार्थ, होटल रेस्टोरेंट, एविएशन, हीरे जवाहरात एवं महंगी गाड़ियों के कारक होते हैं दांपत्य जीवन की शुभता-अशुभता, सौंदर्य, एक्टिंग, प्रेम-प्रसंग, फिल्म उद्योग एवं किसी भी तरह के मनोरंजक क्षेत्रों से लाभ दिलाने वाले शुक्र का जीवन में सर्वाधिक महत्व है इनका नीच राशिगत होना फलित ज्योतिष की बड़ी घटना है इसलिए सभी 12 राशियों पर इनका प्रभाव कैसा रहेगा इसका ज्योतिषीय विश्लेषण *आचार्य कौशलेंद्र कृष्ण शास्त्री जी महाराज*  करते हैं।

 

मेष

राशि से शत्रु भाव में शुक्र स्वास्थ्य के प्रति कुछ चिंता लाएंगे, इस अवधि के मध्य आप गुप्त शत्रुओं बचें और ऋण के लेन-देन से भी बचें वाहन सावधानी पूर्वक चलाएं।

 

वृष

राशि से पंचम शुक्र प्रेम संबंधों में प्रगाढ़ता लाएंगे,प्रेम विवाह के भी योग बनेंगे। शिक्षा प्रतियोगिता में अच्छी सफलता मिलेगी और संतान के दायित्व की पूर्ति होगी।

 

मिथुन

राशि से चतुर्थभावगत शुक्र मानसिक अशांति तो देंगे किंतु मित्रों और मकान-वाहन के सुख का अवसर भी उपलब्ध करवाएंगे इस अवधि के मध्य विदेश यात्रा का भी योग बन रहा है।

 

कर्क

राशि से तीसरेभाव में शुक्र पराक्रमी बनायेंगे, भाग्य भाव पर इनकी उच्चदृष्टि का पूर्ण फल आपके लिए किसी वरदान की तरह है अतः गोचर का पूर्ण लाभ उठायें।

 

सिंह

 राशि से धनभाव में शुक्र मिलाजुला फल देंगे, स्वास्थ्य की दृष्टि से तो प्रभाव विपरीत रहेगा किंतु आय की दृष्टि से समय बेहतर रहेगा नौकरी में पदोन्नति के योग।

 

कन्या

 कन्या राशि वालों के लिए स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव रहेगा नेत्र विकार और गुप्त रोगों से बचें व्यापार की दृष्टि से गोचर अच्छा है, रुका हुआ धन वापस आएगा।

 

तुला

तुलाराशि वालों के लिए द्वादश शुक्र विदेश यात्रा और भौतिक वस्तुओं के क्रय पर खर्च करवाएंगे, माता पिता के स्वास्थ्य पर ध्यान और योजनाओं को गोपनीय रखें।

 

वृश्चिक

राशि से लाभ स्थान में शुक्र कई तरह के अप्रत्याशित परिणाम के अवसर प्रदान करेंगे केंद्र अथवा राज्य सरकार के विभागों में लंबित पड़े कार्यो का निपटारा होगा।

 

धनु

 धनुराशि वालों के लिए दशम भावगत शुक्र रोजगार के नए अवसर लाएंगे नौकरी में पदोन्नति के योग और विलासिता पर अधिक व्यय किन्तु तीर्थाटन का सुख मिलेगा।

 

मकर

राशि से भाग्य भाव में शुक्र का गोचर बेहतर फलदायी, स्थान परिवर्तन अथवा नए अनुबंध की प्राप्ति के साथ-साथ विदेशी मित्रों से लाभ और विदेश यात्रा के योग।

 

कुंभ

 राशि से अष्टमभाव में शुक्र सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ाएंगे लेकिन स्वास्थ्य की दृष्टि से विपरीत प्रभाव वाले हैं अतः यह गोचर आपकी परीक्षा ले सकता है सावधान रहें।

 

मीन

राशि से सप्तम शुक्र व्यापार में उतार-चढ़ाव तो लाएंगे किंतु उच्चदृष्टि आपके लिए वरदान की तरह सिद्ध होगी फिर भी स्वास्थ्य का ध्यान रखें नेत्र विकार से बचें।

 

 

 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments