एडीसी की मनमानी पर भड़के दवा उद्यमियों ने घेरा ड्रग कंट्रोलर कार्यालय

 एडीसी की मनमानी पर भड़के दवा उद्यमियों ने घेरा ड्रग कंट्रोलर कार्यालय


 कार्यवाही नहीं हुई तो किया जाएगा संघर्ष…

 

बद्दी (पंकज गोल्डी) !

औद्योगिक नगर बददी में एक दवा कंपनी पर ड्रग विभाग द्वारा एक वैवसाईट के पत्रकार के साथ मिलकर की गई छापामारी विवादों में घिर गई है। अचानक हुई इस छापेमारी में जहां वैव पोर्टल के कर्मचारी को साथ ले जाने पर बवाल मचा है वहीं जांच करने गए अस्सिटैंट ड्रग कंट्रोलर के व्यवहार को लेकर भी पूरा उद्योग जगत रोष में है। अपने साथ हुई विभिन्न ज्यादतियों को लेकर ग्राम पंचायत गुल्लरवाला के स्थानीय युवा उद्यमी संदीप धीमान

जो कि लोदीमाजरा में दवा उद्योग चलाते हैं ने कई खुलासे किए हैं। उन्होने आज दवा उद्योगपतियों ग्रामीणों के साथ मिलकर ड्रग कंट्रोलर कार्यालय बददी के बाहर अपने उपर हुए अत्याचारों को लेकर प्रदर्शन किया वहीं एस.पी को भी इस मामले में दखल देकर आरोपी अधिकारी व वैवसाईट संचालक इंटरनेट मीडीया कर्मचारी पर कार्यवाही मांगी है। उद्योगपतियों ने राज्य ड्रग कंट्रोलर नवनीत मरवाहा को सौंपी लिखित शिकायत में लोदीमाजरा की दवा फैक्टरी पर निजी वैब चैनल के पत्रकार के साथ एडीसी निशांत शरीन और एक इंस्पेक्टर की कार्यवाही को दवा निर्माताओं ने सरासर ज्यादती ठहराते हुए पैसे ऐंठने की साजिश करार दिया है।

सोमवार सुबह ही पांच दर्जन से ज्यादा दवा उद्यमी ड्रग कार्यालय पहुंचे तथा एडीसी निशांत सरीन और एक अन्य इंस्पेक्टर की तुरन्त बरखास्तगी की मांग उठाई। स्पास रैमिडाईज के एमडी संदीप धीमान का कहना है कि इन लोगों ने एक फर्जी वैवसाईट पत्रकार के साथ मिलकर मुझे बदनाम करने की कोशिश की तथा डरा धमकाकर पैसे ऐंठने की कोशिश की। परन्तु जब इनकी कोशिश नाकामयाब रही तो इन्होंने ड्रग विभाग से उनकी लाखों की कनसाईनमैंट, जोकि बिहार राज्य में चमकी बुखार से पीडित लोगों के लिए भेजी गई थी को रूकवा दिया।

जिससे उनका लाखों का नुकसान हुआ है और वह मानसिक तनाव में है। संदीप धीमान का कहना है कि कोई भी अधिकारी बिना पुलिस इन्सपैक्टर के किसी भी दवा उद्योग में रेड नहीं कर सकता है। जबकि इन्होंने किसी को भी सूचना दिये बगैर एक फर्जी इंटरनेट मीडीया कर्मी के साथ मिलकर उनकी कंपनी को बदनाम करने की साजिश रची। साथ में आये हुए अन्य दवा निर्माताओं का कहना है कि निशांत सरीन पर पहले भी कई केस चल रहे हैं और इनकी कार्यप्रणाली हमेशा से ही सन्देह के घेरे में रही है। इसलिए हम सरकार से इन अधिकारियों को तुरन्त बरखास्त करके इनके विरूद्व सख्त कानूनी कार्यवाही की मांग करते हैं।


इस विषय पर राज्य दवा नियंत्रक अधिकारी नवनीत मारवाह का कहना है कि विभाग के पास वैवसाईट संचालक सुरेन्द्र राणा की शिकायत आई थी कि स्पास रैमिडाईज लोदीमाजरा में नियमों की अवहेलना करके फर्जी दवाईयां बनाई जा रही हैं। जिसकी जांच पडताल के उारान्त सैंपल एकत्रित किये गये हैं तथा रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्यवाही अ ल में लाई जायेगी। इसी विषय को लेकर क पनी के निदेशकों सहित अन्य लोगों ने इस छानबीन प्रकिया को गलत कार्यवाही करार देते हुए आज कार्यालय में ज्ञापन सौंपा है जिसे सरकार के संज्ञान में लाया जा चुका है तथा हर पहलू से जांच की जाएगी। जो भी दोषी होगा उसके विरूद्व कार्यवाही की जायेगी।


इस अवसर पर हिमाचल ड्रग मैनुफैक्चरिंग एसोसिएशन के कई पदाधिकारी व उद्योगपति मौजूद थे जिन्होने इस छापामारी को प्रदेश के उद्योग जगत के लिए घातक करार दिया। उन्होने कहा कि अगर हिमाचल का कोई युवा उद्यमी बेरोजगारी से तंग आकर उद्योग लगाता है

तो उसको प्रोत्साहित किया जाना चाहिए न कि उसकी छोटी मोटी कमियों को आधार बनाकर उसको तंग करके बदनाम किया जाए। इसके अलावा लोदीमाजरा के उद्योग पर हुई छापामारी की प्रदेश के विभिन्न संगठनों ने कड़ी निंदा करते हुए सीएम से इस मामले में दखल देने की मांग की है।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments