राष्ट्रीय छात्रवृत्ति पोर्टल पर पुनः पंजीकरण करना आवश्यक - कमिश्नर

राष्ट्रीय छात्रवृत्ति पोर्टल पर पुनः पंजीकरण करना आवश्यक - कमिश्नर

                    रिपोर्टर - धर्मेन्द्र राघव

अलीगढ़,उ०प्र०-

मण्डलायुक्त अजय दीप सिंह ने आज यहां एएमयू के केनेडी हॉल में राष्ट्रीय अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति पोर्टल पर आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि पोर्टल पर डाली जाने वाली सूचनाओं
को बहुत ही सावधानी के साथ अपलोड किया जाए।

अल्पसंख्यक वर्ग के वर्ग के छात्र-छात्राओं को केन्द्र सरकार द्वारा तीन प्रकार की छात्रवृत्ति योजनाएं संचालित हैं जिसमें प्री-मेट्रिक कक्षा 01 से 10 तक, पोस्ट मेट्रिक कक्षा 11 से पीएचडी तक तथा मेन्टी कम मीन्स छात्रवृत्ति मेडीकल एवं इंजीनियरिंग के छात्रों को प्रदान की जाती है।

इसके अतिरिक्त प्रदेश सरकार द्वारा अल्पसंख्यक, पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति एवं जनजाति एवं
सामान्य वर्ग के गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों के विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है।

उन्होंने कहा कि मण्डल में लगभग 12 लाख एवं अलीगढ़ जनपद 7.50 लाख अल्पसंख्यकों की आबादी है।
उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति पोर्टल से सम्बन्धित जानकारी देने के लिए सबसे पहला प्रशिक्षण अलीगढ़ में आयोजित किया गया है।
कमिश्नर ने कहा कि छात्र-छात्राओं एवं मदरसों के अध्यापकगण को जानकारी देते हुए बताया कि इसमें फण्ड की कमी नहीं है सभी अल्पसंख्यक वर्ग के
छात्र निर्धारित प्रक्रिया के तहत छात्रवृत्ति फार्म अपलोड कराकर योजना का लाभ उठाएं।

उन्होंने कहा कि आप लोगों को विभागीय अधिकारियों द्वारा राष्ट्रीय अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति पोर्टल की जानकारी प्रदान की जाएगी,ताकि छात्रवृत्ति आवेदन की फीडिंग त्रृटि रहित हो सके। संयुक्त निदेशक अल्पसंख्यक कल्याण आर0पी0 सिंह ने शैक्षिक सत्र 2019-20 हेतु राष्ट्रीय छात्रवृत्ति पोर्टल की जानकारी देते हुए बताया कि ऐसे सभी संस्थान जिनके पास वैध एआईएसएचई/डीआईएसई/एनसीवीटी/एससीवीटी कोड हैं उनको राष्ट्रीय छात्रवृत्ति पोर्टल पर पुनः पंजीकरण करना आवश्यक है ताकि वह अपने संस्थान के विद्यार्थियों के आवेदन फार्मों का सत्यापन करने के साथ ही संस्थान के नोडल अधिकारी पंजीकरण फार्म भरें। उन्होंने बताया कि विद्यार्थियों को योजना का चयन करने और समस्त ब्यौरा भरने के पश्चात प्रणाली के माध्यम से बोनाफाईड प्रमाण-पत्र सृजित करने का विकल्प दिया गया है साथ ही यदि विद्यार्थी ने पंजीकरण में गलत विवरण भरा हो या उसने एनएसपी में आवेदन जमा नहीं किया हो तो वह पंजीकरण वापस भी ले सकता है।

इस अवसर पर उप निदेशक समाज कल्याण संदीप कुमार द्वारा अल्पसंख्यक, पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित
जाति एवं जनजाति एवं सामान्य वर्ग के गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों के विद्यार्थियों को प्रदेश सरकार द्वारा उपलब्ध कराई जा
रही छात्रवृत्ति एवं छात्र प्रतिपूर्ति हेतु आवेदन करने की प्रक्रिया की जानकारी प्रदान की गयी। प्रशिक्षण कार्यक्रम में जिला अल्पसंख्यक कल्याण
अधिकारी के अतिरिक्त एएमयू, मदरसे एवं अन्य विद्यालयों के छात्र-छात्राएं बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

Comments