कैसे बनेगा अलीगढ़ स्मार्ट सिटी?मच्छरों का भारी प्रकोप

कैसे बनेगा अलीगढ़ स्मार्ट सिटी?मच्छरों का भारी प्रकोप

अलीगढ,उ.प्र.-

जहां सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ प्रदेश भर को साफ व स्वच्छ बनाने की महिम चला रहे हैं। वहीं नगर निगम प्रशासन अलीगढ़ को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये तमाम प्रयास करने में लगा हुआ हैतो वहीं कुछ कर्मचारी व अधिकारी अपनी कार्यशैली में बदलाव लाने की जहमत नहीं उठा रहे हैं।

शहर के अनेकों स्थानों पर कूडे़ के ढ़ेरों का अम्बार लगा हुआ है,और नाले गंदगी से उफान ले रहे हैं। गंदगी के कारण शहर भर में मच्छरों का प्रकोप बढ़ गया है और लोगों में द्यातक बीमारियां फैल रही हैं।

क्या नगर निगम प्रशासन ऐसी स्थिति में अलीगढ़ को स्मार्ट सिटी बना पाएगा?


नगर निगम द्वारा अलीगढ़ को स्मार्ट सिटी बनाने के लियेविभिन्न हथकंडे अपनाते हुये बाहरी कम्पनियों का सहयोग ले रहा है वहीं शहर भर के नाले-नालियां गदंगी के कारण उफान ले रहे हैं और महानगर के विभिन्न चौराहों पर कूड़े के ढ़ेरों का अम्बार लगा हुआ है।

जहां कूड़े के ढ़ेरों पर पड़ी हुई पाॅलिथिनों को सड़क् पर घूमती आवारा गाय खाकर अपने पेट को भर रही
हैं। गौरक्षा एवं गौशाला चलाने वाले समाज के ठेकेदारों से पूंछा जाए कि सड़क पर आवारा गाय क्यों घूम रही हैं क्या गौशाला में इनके लिये कोई जगह नहीं है।

प्रतिवर्ष गौशाला के नाम पर लाखों रूपये का चंदा जुटाया जाता है कहां जाता है आखिर चंदा का पैसा?आवारा गाय कूड़े के ढ़ेरों पर पड़ी हुई पाॅलिथिनों को खा लेती है और गले में अटकने के कारण गायों की मौत हो जाती है।

वहीं नगर निगम व जिला प्रशासन द्वारा पाॅलिथिन बंद करने के लिये तमाम अभियान चलाये गयेथे, लेकिन आज तक पाॅलिथिन बिक्री व उसके प्रयोग पर रोक
नहींलग पाई है।

नगर निगम प्रशासन द्वारा शहर में सफाई के तमाम दावे किये जाते हैं, लेकिन दोपहर तक कूड़े के ढ़ेरों को सड़कों व चैराहों पर नहीं हटाया जाता है।

वहीं बिन मौसम की बरसात के महेन्द्र नगर में जलभराव हो रहा है। शहर भर में गंदगी के कारण मच्छरों का प्रकोप बढ़ गया हैइसके लिये नगर निगम द्वारा फाॅगिगं स्प्रे कराने के बहुत से दावे किये गये हैं,
लेकिन कागजों में ही फाॅगिंग स्प्रे सिमट कर रह गई है और शाम ढ़लते ही मच्छरों के प्रकोप से आमजन परेशान है।

Comments