आयोग के दिशा निर्देशों का गहनता से अध्ययन कर लें अधिकारी .सीडीओ

 आयोग के दिशा निर्देशों का गहनता से अध्ययन कर लें अधिकारी .सीडीओ

अमेठी आयोग के निर्देश के क्रम में आगामी लोकसभा निर्वाचन 2019 को दृष्टिगत रखते हुए मुख्य विकास अधिकारी प्रभुनाथ की अध्यक्षता में समस्त 112 सेक्टर मजिस्ट्रेट एवं 12 जोनल मजिस्ट्रेट के साथ कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक किया गया। मुख्य विकास अधिकारी ने अपने सम्बोधन के दौरान कहा कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशों को सभी अधिकारी गहराई से अध्ययन कर लें, एक एक लाइन पढ़कर अपने दायित्वों का निर्वहन करें। जिस टीम को जो कार्य दिया गया है 

उसमें पूरी निष्ठा के साथ अपना सहयोग प्रदान करें। उन्होंने कहा कि निर्वाचन का कार्य सर्वाच्च प्राथमिकता पर है, भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश के क्रम में पोलिंग केन्द्रों पर किसी भी स्तर पर कोई लापरवाही नही होनी चाहिए। उन्होनें कहा भारत निर्वाचन आयोग हमसे जो अपेक्षा किया है, उस पर हम कायम रहें, सभी अधिकारी आयोग के निर्देश को सर्वाच्च प्राथमिकता से लेते हुए अपने दायित्वों का सम्यक निर्वहन करते रहें । उन्होनें सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि मतदान दिवस पर मतदान से पूर्व की सभी तैयारी ससमय पूर्ण कर लिया जाये। मतदान मशीन की विशिष्टियों के बारे में समस्त अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि ईवीएम मशीन वीवी पैट, वैलेट यूनिट एवं कन्ट्रोल यूनिट के बारे में सभी महत्व पूर्ण जानकारी रखनी होगी।

उन्होनें सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि आयोग ने हमसे जो अपेक्षा किया है इसमें किसी प्रकार की कोई कमी नही होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सभी जोनल/सेक्टर मजिस्ट्रेट अपने अपने क्षेत्र में भ्रमणशील रहेंगे, किसी भी प्रकार की तनाव, उन्माद की स्थिति उत्पन्न न होने पाये। शरारती तत्वों के खिलाफ दण्डात्मक कार्यवाही करें। जिन मतदेय स्थलों पर वल्नरेबिलटी या क्रिटिकल की समस्याऐं उत्पन्न होने की सम्भावनायें हो वहा सौ प्रतिशत ऐपिक की व्यवस्था कराते हुए मतदेय स्थलों पर डिजिटल कैमरों द्वारा वीडियो ग्राफी कराने के साथ साथ माईको आर्क्जवर की नियुक्ति करके मतदेय स्थलों पर किसी भी प्रकार के असामाजिक तत्वों एवं हिंसा को रोका जा सकता है, पहले से चिन्हित वल्नरेबिल व्यक्ति वल्नरेबिलिटी मैपिंग अपडेट कर ली गई है।

ऐसे मतदाताओं अथवा मतदाताओं के समूहों का ग्राम मजरा व क्षेत्रवार चिन्हितकरण/नाम व पत जो इस प्रकार की परिस्थितियां उत्पन्न कर रहे है ऐसे जिन्हित व्यक्तियों के विरूद्ध प्रभावी निरोधात्मक व विधिक कार्यावाही किया जायेगा। उपरोक्त चिन्हितकरण करते समय लोक सामान्य निर्वाचन 2014 व विधानसभा निर्वाचन 2017 के समय चिन्हित ही बाल्नरेबिलिटी पूर्व प्राप्त शिकायतों एवं मैनुअल में उल्लेख बिन्दुओं का विशेष ध्यान रखा जायें। आयोग के निर्देश के क्रम में उन्होनें यह भी अवगत कराया कि मतदान के समय मतदाता को मतदाता पर्ची के साथ साथ अन्य कोई निर्दिष्ट पहचान पत्र लाना आवश्यक है।

आदर्श आचार संहिता का पालन शत प्रतिशत किया जाये, किसी दल या अभ्यर्थी को कोई ऐसा कार्य नही करना चाहिए जो विभिन्न जातियों और धार्मिक या भाषायी समुदायों के बीच विद्यमान मतभेदों को बढ़ाये या घृणा की भावना उत्पन्न करें या तनाव पैदा करें। इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी ने समस्त अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि मतदान केन्द्रों के मूलभूत व्यवस्थायें बिजली, पानी, रैम्प, शौचालय, फर्नीचर की व्यवस्था सुदृढ करेन के साथ साथ मतदान केन्द्रों पर वर्नरेबिल्टी क्रिटिकल मतदेय स्थलों एवं कानून व्यवस्था को सुदृढ बनाये जाने में किसी प्रकार की कोई लापरवाही नही होनी चाहिए, दिव्यांग व्यक्तियों के लिए मतदेय स्थलों पर अतिरिक्त व्यवस्था होनी चाहिए। बैठक में जिला विकास अधिकारी बंशीधर सरोज सहित जनपद में लगाये गये समस्त 112 सेक्टर मजिस्ट्रेट एवं 12 जोनल मजिस्ट्रेट, उपस्थित रहे

 

 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments