मिथिलावासी अहां सब के गोड़ लागै छी, स्थानीय भाषा से पीएम ने किया जनसभा को संबोधित

मिथिलावासी अहां सब के गोड़ लागै छी, स्थानीय भाषा से पीएम ने किया जनसभा को संबोधित

अररिया:प्रधानमंत्री मोदी ने जनसभा को संबोधित करते हुए विपक्षी दलों पर जमकर निशाना साधते हुए कहा कि जो लोग उछल-उछलकर इन विषयों पर जवाब मांग रहे थे, सबूत मांग रहे थे, दो चरणों के चुनाव के बाद उनके चेहरे लटक गए हैं। चीखनेवालों की बोलती बंद करने का काम हिंदुस्तान के मतदाताओं ने किया। कांग्रेस पर वोट बैंक की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने दिल्ली के बटला हाउस प्रकरण का भी जिक्र किया। उन्होंने आरोप लगाया कि आतंकियों पर कार्रवाई से खुश होने की बजाय, कांग्रेस के बड़े नेताओं की आंखों में आंसू आ गए थे।उन्होंने लोगों से पूछा कि पहले सर्जिकल स्ट्राइक, फिर एयर स्ट्राइक। पाकिस्तान अब दुनिया भर में जाकर गुहार लगा रहा है। भारत ने आतंकियों को पाकिस्तान में घुसकर मारा भी और पूरी दुनिया में उसको अलग-थलग भी कर दिया। नए भारत के नए तेवर से आप खुश हैं, संतुष्ट हैं?  विपक्षी दलों एवं कुछ नेताओं पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा कि जब सत्ता भोग औऱ परिवार का विकास ही लक्ष्य हो जाता है, तो कलह ही दिखाई देता है। बिहार में तो यह साफ दिखाई देता है। 

लालू यादव पर साधा निशाना 

लालू प्रसाद की पार्टी राजद पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जिस पार्टी ने लगातार 15 वर्षों तक कानून-व्यवस्था को ठेंगा दिखाया, उसके नेता आज बेशर्मी के साथ संविधान बचाने की बात कर रहे हैं। बिहार के लोग ऐसे झांसेबाजों को माफ नहीं करेंगे। आरक्षण के विषय पर राजद समेत विपक्षी दलों के आरोपों पर प्रधानमंत्री ने कहा कि झूठ की राजनीति करने वाले बिहार में अफवाह फैला रहे हैं। ऐसे झूठ पीढ़ी दर पीढ़ी चल रहे हैं, बाप भी चलाता था, बेटा भी चला रहा है।
आरक्षण पर दिए भाषण 

मोदी ने जोर दिया, 'मैं कहना चाहता हूं कि जो आरक्षण बाबा साहब करके गए हैं उसे कोई हाथ नहीं लगा सकता । उन्होंने जोर दिया कि बिहार के हर गांव में बिजली पहुंची है और इस बार चुनाव में बिजली मुद्दा नहीं है। 'उन्होंने कहा कहा कि यह प्रसिद्ध साहित्याकार फणीश्वर नाथ रेणु की धरती है । उसी 'मैला आंचल' में लिखा है- मैं साधना करूंगा, ग्रामवासिनी भारत माता के मैले आंचल तले,मैं साधना करूंगा, ग्रामवासिनी भारत माता के मैले आंचल तले।उन्होंने सभी को संबोधित करते हुए कहा कि किसी भी जाति से पहले, किसी भी पंथ से पहले हम भारतीय हैं। हमारी पहचान भारतीय है। इसी साधना की भावना के साथ ही बीते पांच साल में मैंने पूरी ईमानदारी से आपकी सेवा की है। मोदी ने अपने संबोधन की शुरुआत स्थानीय भाषा में की और कहा कि मिथिलावासी, अहां सब के गोड़ लागै छी

  

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments