इंद्रदेव मेहरबान हुई झमाझम बरसात किसानों के चेहरे खिले

इंद्रदेव मेहरबान हुई झमाझम बरसात किसानों के चेहरे खिले

अयोध्या। इन दिनों जनपद में झमाझम बरसात के कारण कहीं खुशी कहीं गम का माहौल है गांव देहात में खेती किसानी का काम चरम सीमा पर है।

  धान की रोपाई का कार्य प्रगति पर है वही अयोध्या फैजाबाद जुड़वा शहर में जलभराव की स्थिति बनी हुई है।

एवं माझा क्षेत्र के रहने वाले लोग दहशत व्याप्त है कि कब सरजू मैया उनके लोगों के गांव को अपनी गोद में ले समाले एवं वह चाहिए।

अयोध्या का मोहल्ला हो या फ़ैज़ाबाद नगर का अयोध्या नगर निगम की सफाई व्यवस्था की पोल इस झमाझम बरसात ने खोल कर रख दी। नाले नाले का आलम यह है कि पानी लोगों के घरों में जाना शुरू हो गया है।

सबसे बुरा हाल तो जरावन टोला का है जहां स्थिति बद से बदतर है लोग उस इलाके को छोड़ने के लिए मजबूर हो गए हैं।

बारिश के मौसम में लोगों ने अपने कमरों को छोड़कर ऊंचे स्थान में पर रहने की व्यवस्था की नाला नाली का पानी तो जा ही रहा है।

इसी पानी के सहारे कीड़े मकोड़े भी घर में अपना सहारा ढूढ रहे है ।

जिससे दहशत में जरावन टोला वासी ऊंचे स्थान पर रहकर किसी तरह रात बिताई अब नगर निगम को क्या कहा जाए जिससे जनता को बड़ी आशा थी।

की उनकी समस्या का समाधान नगर निगम की नई कार्य समिति करेगी लेकिन वही हाल रहा ढाक के तीन पात यही हाल कॉलेज रोड रिकाबगंज जहां विधायक वेद गुप्ता भाजपा का निवास है।

फतेहगंज मोती बाग जहां पूर्व सांसद डॉ निर्मल खत्री रहते हैं एवं सपा के पूर्व विधायक जय शंकर पांडे एवं पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडे उर्फ पवन पांडे के इलाके का भी यही हाल है।

अब यह मान लिया जाए कि सभी राजनेता एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।

जब यह लोग अपने अपने इलाके का कार्य नहीं करा सकते तो आम जनता का क्या करेंगे वहीं भारतीय जनता पार्टी ने पब्लिक के सामने लंबे लंबे वादे किए थे।

एक भी इनके वादे पूर्ण नहीं हुए

वही राम की पैड़ी पर बने हनुमान जी की प्रतिमा आंधी पानी की वजह से बोलेरो गाड़ी पर गिर पड़ी जिससे चालक गंभीर रूप से घायल हो गया।

चौकी प्रभारी नयाधाट ने उसको श्री राम अस्पताल में भर्ती कराया अब सवाल यह उठता है।

की ऐसी मूर्ति सरकार ने लगाई जो किसी गाड़ी पर गिर पड़े और ड्राइवर घायल हो जाए इस को क्या कहा जाएगा यक्ष प्रश्न वही नगर निगम भी ऐसे कार्य करा रहा है।

जहां बरसात में इनकी पोल खुल जाती है इन सब चीजों से तो यही लगता है कि सब एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments