देश की गौरव है यह दिव्यांग बेटियां अरुणिमा सिन्हा

देश की गौरव है यह दिव्यांग बेटियां अरुणिमा सिन्हा

रिपोर्ट दिलराज सोनकर_

अयोध्या_ अरुणिमा सिन्हा देश का गौरव है यह दिव्यांग बेटियां

विकलांग अगर बेटी हो तब तो मुसीबतों का पहाड़ एवरेस्ट की चोटी से भी ऊंचा होता है लेकिन इसी एवरेस्ट के मिथक को तोड़ चुकी अरुणिमा सिन्हा विकलांगता का देश झेल रही बेटियों के लिए उम्मीद और भरोसे की सुनहरी किरण साबित हुई है उन्होंने दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत चोटियों में शामिल अंटार्कटिका के विंसन मैंसिफ हिल पर भी तिरंगा फहराने में कामयाबी हासिल कर ली है कृत्रिम पैर के सहारे एवरेस्ट फतह करने वाली दुनिया की एकमात्र महिला अरुणिमा अब तक किलिमंजारो एलब्रुस कास्टइन  पिरामिड कीजास्को और माउंट    अंककागूआ पर्वत चोटियों को फतेह कर चुकी है भारत भूमि ऐसी और भी बेटियों की साक्षी बनी है जिन्होंने ना सिर्फ देश का सम्मान बढ़ाया अपितु वास्तविक विकलांग साबित हुई पद्मश्री पर्वतारोही अरुणिमा सिन्हा ने माउंट विंसन अंटार्कटिका पर तिरंगा व डॉ राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय का ध्वज फहराया। तिरंगा फहरा कर विश्व रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज कर लिया अवध विश्वविद्यालय पुरातन छात्र सभा ने उनके इस सफल अभियान पर हर्ष व्यक्त किया और उन्हें ढेरों बधाइयां दी डॉक्टर लोहिया के गृह जनपद अंबेडकर नगर की निवासी है और अवध विश्वविद्यालय की पुरातन छात्रा भी हैं कुछ दिनों पहले नरेंद्र मोदी जी ने तिरंगा देकर अरूणिमा की सफलता की कामना किया था अवध विश्वविद्यालय के कुलपति आचार्य मनोज दीक्षित के नेतृत्व में डॉ राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय पुरातन छात्र सभा के फ्लैग आफ समारोह तिरंगा विश्व रिकार्ड बनाने के लिए शुभकामनाएं दिए थे और उन्हें यह कर भेजे थे कि आप एक दिन विश्व रिकार्ड बना कर आइए इस समारोह में मारीशस के एस एस आर मेडिकल कॉलेज के चेयरमैन आर पी एन सिंह और निदेशक श्रीमती मिथिलेश सिंह ने अपने कालेज और मार्शल का फ्लैग भी अरुणिमा को भेंट किया था अरुणिमा जी को जल्द ही पुरातन छात्र सभा की तरफ से ओम प्रकाश सिंह जी अरुणिमा सिन्हा को स्वीकृति मिलने के बाद एक भव्य समारोह का आयोजन करेंगे और अरुणिमा जी को सम्मानित करेंगे

 

 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments