"4G की स्पीड" केवल दिखावा "प्राइवेट कंपनी" कर रही है मनमानी

"4G की स्पीड" केवल दिखावा "प्राइवेट कंपनी" कर रही है मनमानी

रिपोर्टर- पंकज शुक्ला अयोध्या मंडल

"बीएसएनएल बचाओ- देश बचाओ,   
आज पिछले 10 दिन से Vodafone व Idea की नेटवर्क प्रॉब्लम को कोई हल नही हो रहा। प्राइवेट कंपनिया अपनी मनमर्जी चला रही है , 4G की स्पीड केवल दिखावा मात्र बनकर रह गई है । बीएसएनएल राष्ट्रीय सम्पति है और इसे संरझित रखना पुरे देश की जनता की जिम्मेवारी है।सन् 2000 से 2008 तक बीएसएनएल ने 54000 करोड़ रूपये लाभ अर्जित कर भारत सरकार को योगदान दिया और इन्हीं सरकारी राशि से देश की आधारभूत संरचना का विकास,स्वास्थ सेवा,शिक्षा सेवा में खर्च किया जाता है।पिछले 6 सालों से भारत सरकार की उपेक्षाओं के कारण बीएसएनएल लगातार  4 वर्षो से घाटे में चल रही है।सरकारी प्रतिष्ठान बीएसएनएल को नुकसान का मतलब देश की नुकसान-देश की जनता की नुकसान। दूरसंचार क्षेत्र में सरकारी प्रतिष्ठान बीएसएनएल की उपस्थिति के कारण प्राइवेट टेलिकॉम कंपनी चाहकर भी टैरिफ उच्च दर पर निर्धारित नहीं कर पा रहा है जिसका एक मात्र उद्देश्य सिर्फ मुनाफा कमाना होता है। क्योंकि बीएसएनएल सरकार की संचार क्रांति योजना के तहत बिना किसी भेदभाव के देश के कोने-2 में सस्ती और सुलभ दूरसंचार सेवा मुहैया कराती है बिना किसी लाभ और हानि का ध्यान रखते हुए।जब उतराखंड और कश्मीर में प्राकृतिक आपदा आई तो न केवल बीएसएनएल ने संचार व्यवस्था को तत्काल पुनर्जीवित किया बल्कि बीएसएनएल कर्मियों ने प्रधानमंत्री राहतकोश में एक-एक दिन का सैलरी का योगदान दिया।
जब बीएसएनएल मोबाइल सेवा के क्षेत्र में नही था तब मोबाइल में इनकमिंग कॉल के 16 रुपये और आउटगोइंग कॉल के 32 रूपये देने परते थे तो क्या आप फिर से उसी युग में जाना चाहते है ;

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments