वकील और बीकापुर तहसीलदार के बीच बिगत कई महीनों से चल रही तकरार

वकील और बीकापुर तहसीलदार के बीच बिगत कई महीनों से चल रही तकरार

ओम प्रकाश वर्मा
                  
तारुन अयोध्या  ।

वकील और बीकापुर तहसीलदार के बीच बिगत कई महीनों से चल रही रार तकरार में कोर्ट में लंबित मुकदमे वादकारियों पर भारी पड़ रहे हैं। न्याय के लिए न्यायालय का चक्कर काट रहे वादकारियों की खून पसीने की कमाही कोर्ट कचहरी के चक्कर मे उन्हें गर्दिश में ले जा रही है।

तहसीलदार दिग्विजय सिंह पर साथी अधिवक्ता पूर्व बार अध्यक्ष ओम प्रकाश यादव के साथ अभद्रता करने के आरोप को लेकर कई माह से अधिवक्ताओं ने तहसीलदार कोर्ट का बहिष्कार कर रक्खा है।

           जिससे कोर्ट पर मुकदमो का अंबार लग गया हैं।तहसीलदार दिग्विजय सिंह ने बताया कि 8 फरवरी तक 15 सौ 74 मुकदमें कोर्ट में विचाराधीन है। उन्होंने बताया कि अधिवक्ताओं के बीच चल रहे मतभेद को बातचीत करके खत्म कर लिया गया हैं।उधर बार ऐशोसियशन   अध्यक्ष हरिहर प्रसाद यादव ने कहा कि उपजिलाधिकारी बिजेंद्र द्विर्वेदी के चेम्बर में हुई बैठक में तहसीलदार के खेद व्यक्त कर लेने से अब कडुवाहट खत्म हो गई हैं लेकिन इसका निर्णय संघ की बैठक में प्रस्ताव लाकर इस पर विचार किया जायेगा।

           हड़ताल से वादकारियों व कोर्ट के मुकदमो पर पड़ रहे प्रभाव पर पूछने पर उन्होंने अवकाश ,जिले पर होने वाले हड़ताल जैसे प्रकरणों का हवाला देकर कहा कि इस पर मिलजुलकर अंकुश लगाने का प्रयास किया जायेगा जिससे हड़ताल कोर्ट बहिष्कार से वादकारियों के मुकदमे प्रभावित न हो। बताया गया बिगत पाँच महीने में केवल कुछ दिन ही कोर्ट चली है बाकी समय खाली चल रही है।

        मुकदमो के बोझ से कराह रही अदालतों के सामान्य रूप से न चलने से वादकारियों पर इसका बुरा प्रभाव पड़ रहा हैं।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments