अव्यवस्थाओं के मकड़जाल से जूझ रहा है जिला चिकित्सालय

अव्यवस्थाओं के मकड़जाल से जूझ रहा है जिला चिकित्सालय

अव्यवस्थाओं के मकड़जाल से जूझ रहा है जिला चिकित्सालय 
आखिर कब होगी सुविधा युक्त चिकित्सालय


आयोध्या। जिला चिकित्सालय अपनी उद्देश में असफल हो रहा है डॉक्टरों की कमी एंटी रेबीज वैक्सीन सही दवाओं का संकट ऑक्सीजन सप्लाई सिस्टम खराब सिटी स्कैन मशीन खराब 6 माह से ठप है अल्ट्रासाउंड के सहारे  मरीजों का इलाज  राम भरोसे है 

जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ ए के राय पत्राचार और दवाओं का इंडेंट भेजने की बात कहकर  पल्ला  झाड़  लेते हैं  जबकि  10 लाख से अधिक आबादी  के बीच स्थित  यह मंडलीय चिकित्सालय  जिला चिकित्सालय  सिले  कई वर्षों से समस्याओं से जूझ रहा है और वादे के इधर यहां हकीकत बिल्कुल विपरीत है

इलाज के नाम पर सिर्फ मरीजों को परामर्श की सुविधा मिल रही है और गंभीर मरीज सीधे लखनऊ रिफर कर दिए जाते हैं यहां पर है दे दो की संख्या काफी बढ़ रही है कार्डियोलॉजिस्ट नहीं है हादसे में रामजान सिटी स्कैन खराब है जनपद वासियों को आज ही बदहाली दूर होने का इंतजार है चुनाव में पक्ष विपक्ष के लोग बेहतर चिकित्सा सेवाएं मुहैया कराने के दावे करते हैं हल आते हैं कि जिला स्तर में आवश्यक जांच 68 वर्ष भर दवाओं की किल्लत बनी है

स्थान में मरीजों ने समस्याएं गाना शुरू कर दिया उनका कहना है कि स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत बनाने के लिए ठोस पहल करने वाली सरकार को अब आवश्यकता है जिला अस्पताल में लंबे अरसे से विशेषज्ञ चिकित्सकों के महत्वपूर्ण है इसका इंतजाम आज तक मौजूदा समय में 27 पद रिक्त है

यहां तक कि बिना किसी सूचना के और सिर्फ नोटिस देकर 2 वर्षों से एंटी रेबीज वैक्सीन कुत्ता और बंदर के काटने पर इंजेक्शन का स्टॉक खत्म हो जाता है दूर दराज से आने वाले मरीजों को जिला से लौटना पड़ता है इसके अलावा नहीं हो रहा है असुविधा यहां तक की

Comments