अपने घरों से पलायन करने को मजबूर इस कालोनी के लोग पानी में सब कुछ डूबा

अपने घरों से पलायन करने को मजबूर इस कालोनी के लोग पानी में सब कुछ डूबा

अयोध्या।

एक तरफ केंद्र और प्रदेश सरकार ने अयोध्या  की दशा और दिशा बदलने और इस धार्मिक नगरी को एक खूबसूरत स्वरूप देने के लिए योजनाओं का पिटारा खोल दिया है

और सैकड़ों करोड़ रुपए की योजनाओं से अयोध्या में विकास कार्य चल रहे हैं |

लेकिन अभी तक हुए विकास कार्य कितने सफल है इसकी नजीर बीते 24 घंटे में हुई बरसात ने पेश कर दी है |

अयोध्या में हुए विकास कार्यों में भ्रष्टाचार किस कदर हुआ है इसका प्रमाण धार्मिक नगरी अयोध्या की जलमग्न गलियां सड़के और मोहल्ले बता रहे हैं |

जोरदार बरसात में अयोध्या का विकास बज बजाकर बाहर निकल आया |

आलम यह है कि शहर के कई इलाकों में घरों के अंदर घुटनों तक पानी भर गया है |

करोड़ों की विकास योजनायें किस काम की जब पानी बरसते ही तालाब बन जा रही है

अयोध्या की कालोनियां। जब वक्त था तब चेते नहीं अब जल्दी जल्दी हो रहे आधे अधूरे विकास कार्य,सीएम का भी नही खौफ।

खासतौर पर अयोध्या के जलवानपुरा कॉलोनी  के लोगों के सामने अब अपने घरों को छोड़कर सूखे स्थानों पर पलायन करना ही एकमात्र रास्ता बचा है |

क्योंकि बीते 24 घंटे की बरसात में आलम यह है कि कॉलोनी के घरों में कमर तक पानी घुस चुका है और सब कुछ डूब गया है |

लोग घरों की छतों पर आसरा लिए हैं बरसात के पानी के साथ नाले का गंदा पानी और जंगली जीव जंतु भी पानी में तैर कर घरों में अपना आसरा ढूंढ रहे हैं , जिसके कारण कभी भी हादसे की आशंका बनी हुई है |

शहर में डाली गयी सीवर लाइन नही सम्भाल पा रही जलभराव का बोझ

इलाके के रहने वाले शिवनारायण अग्रहरी ने बताया कि 2 साल से इस समस्या को लेकर अधिकारियों के चौखट की परिक्रमा सभी कॉलोनी के लोग कर रहे हैं |

विकास योजनाएं बनी लेकिन उस पर काम नहीं हुआ जिसकी वजह से कालोनी के लोगों का रहना मुश्किल है |

जलवानपुरा कॉलोनी में हालत इतनी ज्यादा खराब है की मुख्य मार्ग से कॉलोनी के बीच संपर्क टूट गया है |

कॉलोनी में जाने के लिए लोगों को कमर तक पानी से होकर गुजरना पड़ रहा है |

कुछ ऐसे ही हालात शहर के कई अन्य इलाकों में वासुदेव घाट ,रामघाट ,कारसेवक पुरम रोड सहित नया घाट इलाके में भी है जहां भीषण जलभराव के चलते जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है |

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments