अयोध्या से गौवंश की तस्करी में क्राइम ब्रांच का ही एक सिपाही मददगार निकला

 

अयोध्या से गौवंश की तस्करी में क्राइम ब्रांच का ही एक सिपाही मददगार निकला यही नहीं 2012 से फरार एक सिपाही भी पशु तस्कर निकला बड़ी खबर अयोध्या से गौवंश की तस्करी में क्राइम ब्रांच का ही एक सिपाही मददगार निकला

यही नहीं 2012 से फरार एक सिपाही भी पशु तस्कर निकला है। 2012 से फरार होने के बाद सिपाही अजवर खान गौवंश की तस्करी करने लगा।इसका खुलासा अयोध्या पुलिस ने किया है जिसमें कार्रवाई करते हुए 26 अप्रैल से अब तक 15 सदस्यीय अंतरराज्जीय गोवंश तस्कर गैंग का खुलासा करते हुए 13 गोवंश तस्कर को गिरफ्तार करने का दावा किया है जिसमें 2 गोवंश तस्कर अभी फरार चल रहे हैं।

दोनों की गिरफ्तारी के लिए 25-25 हज़ार रुपये का इनाम घोषित किया गया है। VO- प्रदेश सरकार गौवंश की तस्करी को लेकर भले ही गंभीर हो लेकिन इसमें पुलिस विभाग के ही कर्मचारी सिपाही पलीता लगाते नजर आ रहे हैं। जिन कंधों पर पशु तस्करी रोकने का जिम्मा है वही लोग पशु तस्कर के मददगार साबित हो रहे हैं।अयोध्या क्राइम ब्रांच का एक सिपाही बलवंत सिंह पशु तस्करों का मददगार निकला।

एसएसपी जोगेंद्र कुमार ने त्वरित कार्रवाई करते हुए सिपाही बलवंत सिंह को सस्पेंड करते हुए जांच बैठा दी है।पुलिस ने गोवंश तस्करी को लेकर 15 सदस्यीय अंतरराज्जीय गैंग का खुलासा किया है।26 अप्रैल से अलग-अलग तारीखों पर पुलिस ने 13 पशु तस्कर को गिरफ्तार करते हुए 7 ट्रक बरामद किए हैं। हालांकि एसएसपी की प्रेसवार्ता के पहले ही सभी पशु तस्करो को जेल भेज दिया गया। पुलिस का दावा है कि 26 अप्रैल को पकड़े गए 2 कंटेनर में जो 55 गोवंश मृत पाए गए थे वे सभी इसी गैंग के सदस्यों ने तस्करी की थी। पुलिस का दावा है कि गैंग का पर्दाफाश करते हुए 140 गौवंश को बचा भी लिया गया जिन्हें गौशाला में रखा गया है।

यही नहीं श्रावस्ती जिले से 2012 से फरार सिपाही अजवर खान भी पशु तस्कर निकला।अजवर खान श्रावस्ती जनपद से 2012 से फरार है और फरार होने के बाद गोवंश तस्करी का काम करने लगा।पुलिस ने सिपाही अजवर खान समेत सभी पशु तस्करों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत भी कार्रवाई कर रही है। एसएसपी अयोध्या ने एसपी श्रावस्ती को भी फरार सिपाही के बारे में पत्र लिखा है। शेष दो फरार पशु तस्करों की गिरफ्तारी के लिए 25-25 हज़ार रुपये इनाम की घोषणा की गई है। यह सभी पशु तस्कर राजस्थान और उत्तर प्रदेश से गौवंश को लेकर बिहार में तस्करी करते थे।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments