बिना लाइसेंस चल रही है मेडिकल स्टोर की दुकाने

बिना लाइसेंस चल रही है मेडिकल स्टोर की दुकाने
  • ग्रामीण इलाकों में खुलेआम बिक रहीं हैं नशीली दवाएं

स्वतंत्र प्रभात बलरामपुर


सादुल्लाह नगर:

चंद पैसों की खातिर लोग दूसरे के जीवन के साथ खिलवाड़ करने से बाज नहीं आ रहे हैं।

बलरामपुर जिले के तहसीलों व कस्बों में  अवैध मेडिकल स्टोरों पर बिना लाइसेंस व रजिस्ट्रेशन के कालातीत व नकली दवाएं खुलेआम बेची जा रही हैं।

नशीली दवाओं से जहां युवा पीढ़ी नशे की शिकार हो रही है, वहीं मरीजों की जान पर संकट बना रहता है। इस गंभीर समस्या की ओर अधिकारी आंखें मूंदे हुए हैं।


रेहरा व सादुल्लाह नगर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के ग्रामीण क्षेत्रों में अवैध मेडिकल स्टोर संचालकों की भरमार है। कुछ मेडिकल स्टोरों के संचालक तो ऐसे हैं जिनका लाइसेंस एक बाजार का है लेकिन उनके मेडिकल स्टोर कई कस्बों में चल रहे हैं। लाइसेंस विहीन मेडिकल स्टोरों के संचालक प्रतिबंधित दवाएं मरीजों को मुहैया करा रहे हैं।

उतरौला तहसील के अंतर्गत रेहरा बाजार, गैडांस बुजुर्ग, धुसवा बाजार, हुसैनाबाद, रामपुर अरना, गद्दीपुर, सादुल्ला नगर, मद्दो चौरा आदि जगहों पर  मेडिकल स्टोरों पर नशीली और प्रतिबंधित दवाएं बिक रही हैं। नशीली दवाओं का असर युवा पीढ़ी पर पड़ रहा है। यदि समय रहते अवैध रुप से संचालित इन मेडिकल स्टोरों के संचालकों पर लगाम नहीं लगाई गई

तो युवा पीढ़ी इसकी चपेट में आ जाएगी। सेंट्रल प्रेस काउंसिल व मीडिया की टीम ने जब ग्रामीण इलाकों का दौरा किया और संचालित मेडिकल सेंटर के मालिकों से बात चीत की तो 90% दुकानों के पास कोई लाइसेंस नहीं था। टीम ने ग्राम पंचायत कथरहा एवजपुर में देखा कि मायाराम नामक व्यक्ति  गांव के बीच में मेडिकल स्टोर संचालित करके बिना खौफ दुकान का संचालन कर रहा था क्योंकि अधिकारियों का दौरा सिर्फ शहरी इलाकों में होता है ग्रामीण इलाकों में कोई अधिकारी जल्दी नहीं जाता।

इसलिए इस तरह के अवैध कारोबार करने वाले ज्यादातर मेडिकल सेंटर आपको गांव के बीचो-बीच मिलेंगे। इनके पास प्रतिबंधित दवाओं के साथ-साथ एमटीपी किट आदि देखने को मिल जाएगा। अब देखना यह है कि खाद्य सुरक्षा औषधि प्रशासन इन लोगों पर एक्शन कब लेता है।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments