नियोजित शिक्षकों ने समान काम समान वेतन पर सरकार के रवैये पर गहरा आक्रोश जताया

नियोजित शिक्षकों ने समान काम समान वेतन पर सरकार के रवैये पर गहरा आक्रोश जताया

बांका:

गुस्साए नियोजित शिक्षक अब माध्यमिक शिक्षा व्यवस्था को पटरी से उतारने की तैयारी में हैं।

मंगलवार को शिक्षक संघ भवन में जिला माध्यमिक शिक्षक संघ की आयोजित बैठक में शिक्षकों में इसको लेकर गहरा आक्रोश दिखा। बैठक की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष भुवनेश्वर पंडित ने की। जबकि मुख्य अतिथि प्रमंडलीय अध्यक्ष नागेश्वर राय प्रमुख रूप से बैठक में उपस्थित हुए।

बैठक में उपस्थित नियोजित शिक्षकों ने कहा समान काम समान वेतन पर सरकार के रवैये पर गहरा आक्रोश जताया। साथ ही अविलंब आंदोलन तेज करने का निर्णय लिया गया। साथ ही शिक्षकों ने कहा कि बांका के 80 प्रतिशत माध्यमिक विद्यालयों में नियोजित शिक्षक ही प्रभारी प्रधानाध्यापक हैं।

कोर्ट और सरकार के मुताबिक यह पद नियोजित शिक्षकों के लिए नहीं है। ऐसे में सभी विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक स्वेच्छा से पद का त्याग करेंगे। राज्य संघ से इस फैसले का अनुमोदन होने के बाद एक साथ सभी प्रधानाध्यापक डीईओ को अपना त्याग पत्र सौंप देंगे। साथ ही कोई नियोजित शिक्षक आगे भी इसका प्रभार नहीं लेगा। साथ ही ग्रीष्मावकाश के बाद राज्य स्तरीय आंदोलन पर बात हुई। इसके लिए जिला संगठन ने राज्य संगठन के निर्णय का पालन करने की बात दुहरायी।

प्रमंडलीय अध्यक्ष नागेश्वर राय ने कहा कि शिक्षक और सरकार की लड़ाई कभी खत्म होने वाली नहीं है। हम हर लड़ाई जीते हैं। हम फिर सरकार से ही लड़कर वेतनमान लेंगे। इसके लिए शिक्षकों को एकजुटता दिखाने की जरूरत है। जिलाध्यक्ष ने कहा कि शिक्षकों के प्रस्ताव को उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष शत्रुघ्न प्रसाद सिंह को भेज दिया है। राज्य संघ की अनुमति के बाद जिला में भी आंदोलन तेज कर दिया जाएगा। बैठक में जिला सचिव रामेश्वर हरिजन, रूस्तम अली, राहुल कुमार, कर्मचंद यादव, अमरनाथ पासवान, भीमेंद्र चौधरी, मुकेश निराला, कांतेश पांडेय, संजय कुमार, अ

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments