जिम्मेदार अधिकारी की उदासीनता की वजह से रिटायर्ड प्रधानाध्यापक ने किया भ्रस्टाचार

जिम्मेदार अधिकारी की उदासीनता की वजह से रिटायर्ड प्रधानाध्यापक ने किया भ्रस्टाचार

रिपोर्ट-प्रवीण कुमार तिवारी

बाराबंकी


बाराबंकी जनपद के  बनीकोडर शिक्षा क्षेत्र में पूरी तरह भ्रस्टाचार ब्याप्त है विद्यालय में अध्यापकों द्वारा लगातार बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है ताजा मामला बनीकोडर अंतर्गत  पूर्व माध्यमिक विद्यालय जरौली के सेवानिवृत्त हुए प्रधानाध्यापक जाते जाते पुस्तकालय और खेल सामग्री का पैसा बगैर पुस्तके और सामग्री पैसे निकाल ले गए। अधिकारियों ने मामले से अनभिज्ञता व्यक्त की है।


शिक्षा विभाग द्वारा प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयो मे नए शिक्षा सत्र शुरू होने से पूर्व छात्र संख्या के मुताबिक पुस्तकालय और खेल सामग्री के लिए ग्राम शिक्षा निधि के खाते में पैसे भेजे गए थे नियमानुसार इस पैसे से पुस्तकें और खेल सामग्री खरीद कर दुकानदार को अकाउंट पेई चेक दिए जाने के निर्देश है। इसके बावजूद पूर्व माध्यमिक विद्यालय जरौली के सेवानिवृत्त शिक्षक चंद्रपाल तिवारी ने जाते जाते बच्चों की खेल सामग्री तथा पुस्तकालय के लिए आया 20 हजार रुपए शिक्षा निधि के खाते से निकाल ले गए।

सूत्रों के मुताबिक उच्च प्राथमिक विद्यालय जरौली में तैनात प्रधानाध्यापक चंद्रपाल तिवारी का 31 मार्च 2019 में रिटायरमेंट होने के कारण उनका चार्ज प्राथमिक विद्यालय चक रामपुर के अध्यापक सोमेश्वर पांडे को विभागीय अधिकारियों के निर्देश पर मिला था

श्री पांडे ने चंद्रपाल तिवारी के सेवानिवृत्त अभिलेखों के पूर्ण होने के लिए जनवरी माह में ही उन्हें विद्यालय की कोई धनराशि बकाया ना होने का नो ड्यूज प्रमाण पत्र देकर खंड शिक्षा अधिकारी को अवगत करा दिया था। आश्चर्य तो यह रहा कि विभागीय अधिकारियों ने विद्यालय का चार्ज सोमेश्वर पांडे को तो दिला दिया लेकिन बैंक के खाते का लेनदेन चंद्रपाल तिवारी ही करते रहे और श्री तिवारी ने इसका भरपूर फायदा उठाते हुए मार्च माह में बच्चों के लिए खेल सामग्री के लिए आया हुआ 10 हजार रुपए तथा पुस्तकालय की पुस्तकें खरीदने के लिए मिला

10 हजार रुपए बैंक खाते से निकाल लिया। ना बच्चों के लिए किताबें खरीदी गई और ना ही क्रीड़ा सामग्री ही। मामले का खुलासा तब हुआ जब सोमेश्वर पांडे ने बैंक से पासबुक अपडेट कराई। उन्होंने तत्काल विभागीय अधिकारियों को मामले से अवगत कराया लेकिन अधिकारी लीपापोती में जुटे हैं।

इस संबंध में खंड शिक्षा अधिकारी अजीत प्रताप सिंह ने बताया कि मामले की जानकारी नहीं है अभी चुनाव में व्यस्त हूं। शिकायत मिलने पर जांच करके दोषी के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments