ग्राम प्रधान के ऊपर भ्रष्टाचार का आरोप मुख्यमंत्री से शिकायत

ग्राम प्रधान के ऊपर भ्रष्टाचार का आरोप मुख्यमंत्री से शिकायत

रिपोर्ट-श्रवण चौहान


बाराबंकी
जनपद बाराबंकी के विकासखंड सिद्धौर की ग्राम पंचायत इनायतपुर के रहने वाले जितेंद्र कुमार वर्मा पुत्र रामकुमार वर्मा ने ग्राम प्रधान के ऊपर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री प्रधानमंत्री समेत अन्य अधिकारियों को पत्र लिखकर ग्राम पंचायत में हुए कार्यों की जांच कराने की गुहार लगाई है ।

आपको बता दें कि इस ग्राम पंचायत में जन सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के अंतर्गत मांगी गई सूचना में लाखों रुपए का भ्रष्टाचार प्रकाश में आया था जिस पर जितेंद्र कुमार वर्मा ने खुद मुख्यमंत्री से लेकर अन्य अधिकारियों तक पत्र लिखकर यह अवगत कराया है कि इस ग्राम पंचायत में हुए भ्रष्टाचार की प्रमुखता से टीम गठित करते हुए जांच कराएं ।

जितेंद्र कुमार वर्मा का यहां तक कि दावा है कि इस ग्राम पंचायत में जो भी अधिकारी जांच के लिए आए वो हमको सूचना दें मिले और हम उनको सबूत देते हुए कहां-कहां भ्रष्टाचार हुआ है उन जगहों पर भी ले जाकर मौके की स्थित दिखाने का कार्य करेंगे

क्या है जितेंद्र कुमार वर्मा का आरोप


जितेंद्र कुमार वर्मा के अनुसार ये बताया जा रहा है कि इस ग्राम पंचायत में सरकारी हैंड पंप रिपेयरिंग व रिबोर के नाम पर लाखों रुपए निकाल लिया गया।

जबकि उन हैंडपंपों की रिपेयरिंग व रिबोर हुई ही नही है वही इस ग्राम पंचायत में लगे सोलर लाइट व स्टील लाइट में भी बड़ा बंदरबांट किया गया है इसी क्रम में जितेन्द्र कुमार वर्मा का कहना है कि जितने भी अधिकारी कर्मचारियों से इस संबंध में शिकायत किया वो बिना जांच किए ही फाइनल रिपोर्ट लगा देते हैं जो काफी निंदनीय है।


आगामी ग्राम पंचायत के चुनाव से पहले ग्राम प्रधानों की संपत्ति की होगी जांच तो बहुत से ग्राम प्रधान जाएंगे जेल

केंद्र सरकार अब आगामी ग्राम पंचायत के चुनाव से पहले ग्राम प्रधानों की संपत्ति की जांच कराने की तैयारी में है वहीं सूत्रों की मानें तो बताया जा रहा है कि केंद्र सरकार राज्य सरकार के लिए गाइडलाइन जारी करने वाली है।

जिसमें इन महत्वपूर्ण बिंदुओं पर जांच कराने की तैयारी में है उदाहरण के लिए वर्तमान प्रधानों की माली हालत उनके प्रधान बनने से पहले क्या थी ।और आय का सोत्र क्या था, पांच साल में प्रधानों के पास क्या क्या संसाधन आए और उसका जरिया क्या था।

प्रधानों के व्यक्तिगत खातों से पहले कितनी जमा निकासी थी और प्रधान बनने के बाद अब तक क्या रही, लग्जरी गाड़ी और जमीन खरीद कितनी हुई। इन सब बिंदुओं को जांच में शामिल किया जाएगा।सूत्रों के अनुसार पांच साल में अधिकतर प्रधानों की सम्पत्तियों में कई गुना इजाफा हुआ है इसका भी जरिया पता लगाया जाएगा।

ग्राम प्रधान के पुत्र ने दिया सफाई कहा नही हुआ है कोई भ्रष्टाचार

इस ग्राम पंचायत के ग्राम प्रधान के पुत्र ने इसी तर्क पर अपनी सफाई देते हुए कहा कि जितने भी आरोप लगाए जा रहे हैं वो पूरी तरीके से निराधार हैं यह सब कार्य पक्षियों के द्वारा कराया जा रहा है ।उन्होंने बताया कि जन सूचना अधिकार के तहत जो भी सूचनाएं प्राप्त हुए हैं उस पर मैं जांच कराने के लिए तैयार हूं।

Comments