एक दशक से गांव के सभी निवासी झेल रहे जल निकासी की समस्या

एक दशक से गांव के सभी निवासी झेल रहे जल निकासी की समस्या

               रिपोर्टर - अजय सिंह

 

दरियाबाद,बाराबंकी -


विकास खंड दरियाबाद तहसील सिरौलीगौसपुर के ग्राम पंचायत अहिरनपुरवा के मजरा पुरे शिवा की समस्या बड़ी जटिल है।

पूरे गांव में नाली की समस्याओं से गाँववासी जूझ रहे हैं पर ग्राम प्रधान व जनपद से लेकर विकास खंड के आला अधिकारी अपने अपने काग़ज़ी कार्यवाही में मस्त हैं ।

वहीं मौके पर हालात काफ़ी दयनीय बनी हुई है भारत सरकार का स्वच्छ भारत मिशन का कारवां गाँव में आकर फंस गया है।

लोगों के चाहने के बाद भी लोगों को शौचालय के लिए प्रोत्साहन राशि नहीं मिल पा रही इस गाँव में कई परिवार रहते हैं ।पर अभी तक लोगों को शौचालय योजना का लाभ नहीं मिला सका, ऐसे में उनका घर स्वच्छता अभियान से वंचित है।

भारत सरकार व राज्य सरकार के सहयोग से खुले में शौच मुक्ति की कुप्रथा को 2019 तक खत्म करने के लिए स्वच्छ भारत अभियान शुरू किया गया है।

 यह योजना ग्रामीण व शहरी क्षेत्र में लागू की गई है जिनके घरों में शौचालय नहीं है उन परिवारों को निर्माण के लिए प्रोत्साहन राशि दी जाती है।

जिस अनुदान के सहारे अपने घर को स्वच्छता के दीये से रौशन करना चाहते थे, लेकिन पात्रता की श्रेणी में आए लोग भी आस लगाये बैठे हैं यही कारण है ।

की अधिकतर गरीबों के घर में शौचालय नहीं है, वह चाह कर भी शौचालय नहीं बना पा रहे,क्यों की ग्राम सभा के ज़िम्मेदार लोगों का साथ नहीं मिल पा रहा है।

ऐसे में वह सारे परिवार खुले में शौच जाने को मजबूर है वहीं गाँव में नाली और नाले की बड़ी भारी समस्या बनी हुई है लोगों के घरों से निकलने वाले गंदे पानी की निकासी के लिए कोई भी व्यवस्था नही।


इस सम्बंध में देवतादीन,संदीप ,दुर्गेश बताते हैं की हमारा गाँव सुरु से ही बदहाली झेल रहा है हम लोगों ने जिसे भी प्रधान चुना उसने हम लोगों की दशा बदलने की ज़रा भी कोशिश नही की आज हालात ये है की घर के बाहर गढ़ा खोद कर पानी इकट्ठा होने देते हैं।


इसी गांव का एक व्यक्ति अपनी ही पुरानी कुएँ में पानी को गिराने पर विवश हैं गाँव में गंदे पानी को बाहर ले जाने के लिए अभी तक कोई भी नाली नाले की व्यवस्था नही की गई है।

दरवाज़े पर पानी इकट्ठा होने से मच्छरों का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है जिससे लोगों के अधिक बीमार होने की सम्भावनाए हमेशा बनी रहती हैं।


इस सम्बंध में उच्च स्तरीय अधिकारियों से लेकर ग्राम प्रधान के द्बारा कोई ठोस कदम समय रहते नहीं उठाया गया तो कुँए में गिरने वाले पानी के साथ साथ जल भराव व जल निकासी समस्या की वजह से जो गांव के सभी लोगों के घरों के पास जो भी गंदगी फैली हुई है ।

किसी न किसी दिन पूरा गांव किसी भंयकर बीमारी की चपेट में आ सकता है।


शौचालय बनवाने का काम सुस्त गति से सुरु हो गया है खुले में शौच मुक्त गांव हो पायेगा या नहीं यह तो समय पर निर्भर है।

Comments