खंड शिक्षा अधिकारी डॉ.अजीत प्रताप सिंह अमान्य विद्यालयों पर हुए सख्त, मचा हड़कंप

खंड शिक्षा अधिकारी डॉ.अजीत प्रताप सिंह  अमान्य विद्यालयों पर हुए सख्त, मचा हड़कंप

ब्यूरो रिपोर्ट बाराबंकी

रामसनेही घाट बाराबंकी


बनीकोडर खंड शिक्षा अधिकारी अजीत प्रताप सिंह ने अमान्य विद्यालयों पर शिकंजा कसते हुए पूरे लोध स्थित जय मां विंध्यवासिनी बाल विद्या मंदिर पर एक लाख रुपए जुर्माना करने की संस्तुति बीएसए को पत्र भेजकर की है।

बताते चलें कि 2 सप्ताह पूर्व खंड शिक्षा अधिकारी ने वनी कोडर शिक्षा क्षेत्र अंतर्गत चलने वाले 34 अमान्य विद्यालय के प्रबंधकों को नोटिस देते हुए तत्काल मान्यता से अधिक कक्षाएं न संचालित करने के निर्देश दिए थे। यही नहीं उन्होंने चेतावनी दी थी कि 1 सप्ताह के अंदर मान्यता से अधिक कक्षाएं संचालित करना स्वयं बंद कर दें ।

अन्यथा ऐसे विद्यालयों के विरुद्ध वैधानिक कार्रवाई के साथ ही भारी जुर्माना लगाया जाएगा। नोटिस और चेतावनी के बावजूद मान्यता से अधिक विद्यालय संचालित करने वाले संचालकों ने कक्षाएं संचालित करना जारी रखा है।

गत दिनों खंड शिक्षा अधिकारी श्री सिंह ने जय मां विंध्यवासिनी बाल विद्या मंदिर पूरे लोध का निरीक्षण किया तो विद्यालय मे कक्षा 8 तक की कक्षाएं संचालित होती मिली जबकि विद्यालय को किसी भी प्रकार की मान्यता नहीं मिली हुई थी।

जिसके बाद खंड शिक्षा अधिकारी ने विद्यालय को बंद करवा दिया था लेकिन उसके बाद भी विद्यालय के संचालक द्वारा कक्षाएं संचालित की जा रही थी।

जिसके बाद खंड शिक्षा अधिकारी ने विद्यालय के संचालक के विरुद्ध एक लाख रुपए का जुर्माना किए जाने के संस्तुति करते हुए जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को पत्र भेज दिया।

इस कार्रवाई के बाद से अमान्य विद्यालय संचालकों में हड़कंप मच गया है।

Comments