प्रसिद्ध गायिका भावना सिंह पहुँची सुमेरगंज पत्रकारों से की बात

 प्रसिद्ध गायिका भावना सिंह पहुँची सुमेरगंज पत्रकारों से की बात

रामसनेहीघाट,बाराबंकी अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अपने भजनों से लोगों को मंत्रमुग्ध करने वाली भावना अपने पिता की भावनाओं को उच्च शिखर पर पहुंचा कर उनके नाम को अमर कर दिया।
उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के शाहगंज गाँव के क्षत्रिय परिवार में पैदा भावना सिंह का आजकल भजन गायिका के रूप में देश दुनिया में अपना नाम बुलंद कर रही हैं। रामसनेहीघाट के कस्बा सुमेरगंज स्थित दुर्गा मंदिर पर आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेने आई भावना ने एक मुलाकात में बताया कि उनके पिता स्व० रामलखन सिंह लहरी वीआरपी इंटर कालेज जौनपुर में शिक्षक पद पर कार्यरत थे।जिस समय वर्ष 2007 में उनकी मृत्यु हुयी उस समय भावना कक्षा ग्यारह में पढ़ रही थी।पिता की मृत्यु के बाद भावना अपनी माता शोभासिंह के सहारे हो गई लेकिन भजन गाने की जो शौक प्राइमरी स्कूल से शुरू हुई थी वह यथावत चलता रहा। स्कूल के विभिन्न समारोहों में वह अपने भजनों से लोगों को वशीभूत करती रही।पिता की मौत के बाद उनकी भजन गायिकी के लोग दीवाने हो गये और कार्यक्रमों में उनकी मांग होने लगी लेकिन उनकी माँ बाहर अकेले जाकर गाने पर राजी नहीं थी।

पिता के न रहने के बाद वह अपनी मां के बुढ़ापे की लाठी बन गई और इंटर में पढ़ते हुए भजन गाना शुरू कर दिया।भावना को 2010 में उस समय जीवन का लक्ष्य मिल गया जबकि जब वह गोरखनाथ मंदिर में कार्यक्रम करने गई। वहां के मंहत वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनका चयन कराकर बैंकाक विष्णु मंदिर पर नवरात्रि में दस दिवसीय कार्यक्रम में भेज दिया।भावना के भजन वहां पर इस कदर पंसद किये गए कि वहां के लोग खुश होकर लगातार पांच साल तक बुलाते रहे।इसके बाद मारीशस में भोजपुरी की एक शिक्षिका के माध्यम से वहां पर बुलाया गया और वहाँ पर भी भावना को खूब सराहा गया।इसके बाद 2017में नीदरलैंड में सरकार द्वारा आयोजित साँस्कृतिक मध्यक्षेत्र कार्यक्रम में भावना को आमंत्रित किया गया और वहाँ भी लोगों ने उनके भजनों को बहुत पसंद किया। दिल्ली में आयोजित विश्व भोजपुरी सम्मेलन में तीन बार सहभागिता कर चुकी हूँ।भावना बीए बीपीएड उत्तीर्ण कर चुकी हैं।

 

Comments