लगातार बारिस से जनजीवन अस्त व्यस्त

  लगातार बारिस से जनजीवन अस्त व्यस्त

बस्ती विकासखंड विक्रमजोत के अलग अलग जगहों पर बारिश के चलते रिहायसी झोपड़ी व मकान क्षतिग्रस्त हो गया गनीमत रही कोई गम्भीर दुर्घटना नहीं हुई पहली घटना क्षेत्र के बभरौली गांव की है जहां उत्तर तालाब के किनारे लगा करीब सौ वर्ष पुराना पीपल व बरगद का पेड़ गांव के सुबाष तिवारी पुत्र राम कुमा तिवारी के रिहायशी फूस की झोपडी पर गिर गया।जिससे एक तरफ की सीमेंटेड दीवाल गिर गई।वहीं दूसरे तरफ की आधी दीवाल फट गई।

उसमें रखा अनाज , पशुचारा , हैंडपंप , शौचालय , लकड़ी , सहित अन्य घरेलू सामान दब गया।पीपल के पेड़ की जड़ से सटी पुलिया क्षतिग्रस्त हो गई।गांव की मुख्य सड़क होने से ग्रामीणों को आवागमन में आसुविधा हो रही है।

ग्रामीण जगमोहन , मिंटू , श्यामनरायन , मो. असलम , अखिलेश , दयाशंकर वर्मा , सूर्यनयायन , बलराम वर्मा आदि लोगों ने बताया कि तालाब के सौन्दर्यीकरण के समय ग्राम प्रधान द्वारा पेड़ के किनारे से अधिक मात्रा में जेसीबी मशीन के द्वारा मिट्टी निकाल लिया गया था।इस बात को लेकर ग्रामीणों ने विरोध जताया कि बरसात के समय में इससे बहुत बडा़ हादसा हो सकता है लेकिन ग्राम प्रधान ने  एक न सुनी जिसका खमियाजा सुबाष को भुगतना पड़ा।पुलिया के पास से मिट्टी निकाल लेने से उस जगह बडा़ भारी कुंड हो गया।

दो दिनों से हो रही लगातार बारिश के चलते गुरुवार/शुक्रवार की रात विशालकाय पीपल व बरगद का पेड़ गिर गया।दूसरी घटना क्षेत्र के अतरौरा झाम की है जहां बारिश के चलते ओम प्रकाश सिंह पुत्र बीरबल का सीमेंच के पतरे से बना रिहायसी घर गिर गया जिसके चलते घरेलू उपयोग की चीजें उसी में दब गयीं वही तीसरी घटना क्षेत्र के बस्थनवां गांव की है जहां अजय कुमार के घर के अंदर बना खप्पड़ के बरामदे का एक हिस्सा गिर गया गनीमत रही लोग बाल बाल बच गये।

Comments