बस्ती सहित सम्पूर्ण उ.प्र. सिर्फ कागजों में ओ.डी.एफ. घोषित

बस्ती सहित सम्पूर्ण उ.प्र. सिर्फ कागजों में ओ.डी.एफ. घोषित

जनपद में डी.एम.व एस.पी.के तबादले के बाद भी नहीं सुधरी कानून व्यवस्था-चन्द्रमणि पाण्डेय

बस्ती -

जनपद के कप्तानगंज विधानसभा में विभागीय कार्यों की समीक्षा करने आये पंचायती राज्य मंत्री आज उस समय निरूत्तर होकर मुंह मोडते नजर आये जब समाजजिक कार्यकर्ता चन्द्रमणि पाण्डेय ने उनके ही विभाग पर बडा सवाल खडा करते हुए कहा कि जनपद में सरकारी योजनाओं का बंदरबाट चल रहा है जिसके चलते अधिकांश पात्र विधवा वृद्ध विकलांग पेंशन आवास व शौचालय जैसी मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं

सरकार का खुले में शौचमुक्त का दावा महज कागजी है जनपद का पहला आदर्श ग्राम ही अभी इन सुविधाओं से आच्छादित नहीं है विकास कार्य कहां हो रहा है पता नहीं हां जनपद में लूट व हत्या की घटनाएं पूर्व जिलाधिकारी राजशेखर जी के जाने के बाद बढी तो वो जिलाधिकारी व एस.पी.के तबादले के बाद भी नहीं थम रही हैं।

दो दो टोल भरने के बाद भी यातायात की व्यवस्था ग्रामीण अंचल कौन कहे हाईवे की बदतर हैं प्रमुख चौरहों दो दो टोल देने के बाद भी अण्डरपास विहीन हैं श्री पाण्डेय के प्रश्नो से निरूत्तर मंत्री जी चलते बने श्री पाण्डेय ने कहा कि विकास कार्यों की समीक्षा जबतक मौके पर नहीं होगा जनता से संवाद न कर डाक बंगले में होगा जमीनी विकास नहीं होना है

Comments