भदोही जनपद कई प्राथमिक विद्यालयों के छत से गुजर रहा हाईटेशन तार 

भदोही जनपद कई प्राथमिक विद्यालयों के छत से गुजर रहा हाईटेशन तार 
  • प्राथमिक विद्यालय कांवल पर दो बार हो चुकी है घटना, विभाग आज भी अंजान

भदोही।  ज्ञानपुर विकास खंड प्राथमिक विद्यालय कांवल   के ऊपर हाईटेशन विद्युत तार गया हुआ है। लेकिन जिम्मेदार मौन साधे बैठे हुए है। जिससे कि प्रश्न उठता है कि अगर भविष्य में कोई अप्रिय घटना विद्यालय में हो जाएगी तो आखिर  जिम्मेदार कौन होगा।

ज्ञात हो कि जिला मुख्यालय से महज 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित प्राथमिक विद्यालय के छत के ऊपर हाईटेशन बिजली का तार गया है किंतु किसी भी अधिकारी का नजर आखिर क्यों उस पर नही पड़ रहा है। खुदा न खास्ता यदि कभी  जर्जर विद्युत का तार गिर गया तो  नौनिहालों का क्या दशा होगी। ज्ञात हो कि सर्वप्रथम विद्यालय छत पर कांवल चकसिखारी निवासी दो किशोर विद्यालय के छत पर चढ़े थे कि जिसमें लवकुश हाईटेशन तार की जद  में आ गया

गम्भीर रूप से झुलस गया। उसे बचाने के चक्कर मे दूसरा किसोर भी झुलस गया था। परिजनों के द्वारा दोनो के उपचार के लिए ले जाया जा रहा था कि लवकुश ने रास्ते मे ही दम तोड़ दिया जबकि दूसरा झुलसा किशोर करीब एक महिने तक जिंदगी और मौत जूझता रहा। लेकिन उपचार के बाद जिंदगी की लड़ाई में  जीत गया और उसकी जान बच गया।

आखिर इन हादसों के बाद भी विभाग क्यो नही चेत रहा है। इस संदर्भ में विद्यालय के प्रधानाध्यापक बताया इसकी शिकायत विभागीय लोगो को बार किया गया लेकिन आज तक कोई कार्यवाई नही हुई। मालूम हो कि उक्त विद्यायल के प्रांगड़ में  वर्ष 2009 में लोक सभा चुनाव के समय टेंट लगाया जा रहा था  टेंट के लोहे का खम्भा तार में छू जाने से एक मजदूर घायल हो गया था। इसी प्रकार ज्ञानपुर नगर से सटे चकटोडर गांव में स्थित प्राथमिक विद्यालय। ऊपर से गुजरा हाईटेंशन तार दो माह पहले अचानक टूटकर गिर गया। संयोग था कि विद्यालय बंद था।

इससे बड़ी दुर्घटना तो टल गई लेकिन सवाल खड़ा हो उठा कि विद्यालय खुला होता तो फिर अंजाम क्या होता। इससे भी बड़ी बात तो यह है विद्युत विभाग को लिखित रूप से अवगत कराया जा चुका है लेकिन अभी तक तार नहीं हट सका। इसी प्रकार भदोही ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय प्रजापतिपुर के ऊपर से हाईटेंशन विद्युत तार गुजरा है। ऐसे में शिक्षक व अभिभावक हमेशा भयग्रस्त रहते हैं कि विद्युत तार टूटकर गिरा तो क्या होगा। तार को विद्यालय भवन के ऊपर से हटाने की मांग की जा चुकी है लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। 

Comments