पापियों का नाश करने को पृथ्वी पर अवतरित होते हैं भगवान-: अनूप ठाकुर जी महाराज

पापियों का नाश करने को पृथ्वी पर अवतरित होते हैं भगवान-: अनूप ठाकुर जी महाराज

भरखनी(हरदोई)।

पकरी में चल रही श्रीमद् भागवत कथा के चतुर्थ दिवस में कथा को सुनाते कथा व्यास अनूप ठाकुर जी महाराज ने बताया कि परम पिता परमात्मा इस धरा धाम पर तब अवतरित होते हैं जब इस भूतल पर पापाचार  अत्याचार दुराचार  बढ़ता है।

जब जब होई धर्म की हानी,

बाढंहि असुर अधम अभिमानी 

तब तब धरि प्रभु विविधि शरीरा,

हरहिं कृपा निधि सज्जन पीरा

तब जाकर परम पिता परमात्मा इस भूतल पर अवतार लेते हैं। श्री ठाकुर जी ने कहा जब कंस का अत्याचार चरम सीमा पर पहुंच गया। 

संत महात्मा विप्र देव आदि सभी भयभीत हो गए सभी पृथ्वी के समेत प्रभु की खोज में निकलें  किसी ने कहा भगवान क्षीर सागर में मिलेंगे तो किसी ने कहा वैकुंठ में मिलेंगे उसी समय भोले बाबा ने कहा परमात्मा सर्वत्र व्यापक है।

हरि व्यापक सर्वत्र समाना प्रेम से प्रगट होय मैं जाना परमात्मा प्रेम के भूखें है जो उन्हें प्रेम से बुलाता भगवान सारे बंधनों को तोड़ कर वहां दौड़े दौड़े चलें आतें हैं सभी मिलकर वहीं भगवान को पुकारनें लगे। 

हे देवगणों हे संतो अब परेशान मत हों मैं शीघ्र ही अवतार लेने वाला हूं आप सभी गोकुल बरसाना वृन्दावन में निवास करों मैं दुष्ट कंस को मार कर आप सभी को निर्भय कर दूंगा। कथा सुनने के लिए हजारों की संख्या में श्रोतागण पंडाल में मौजूद रहे।

 

Comments