लोकसभा चुनाव: लोकसभा भदोही क्षेत्र के मतदाता किस 'र' (R) के सिर पर बांधेंगे जीत का ताज

लोकसभा चुनाव:  लोकसभा भदोही क्षेत्र के मतदाता किस 'र' (R) के सिर पर बांधेंगे जीत का ताज

 

रिपोर्ट- आनंद मिश्रा भदोही

भदोही:-  लोकसभा चुनाव धीरे-धीरे अब समापन की अग्रसर हो रहा है। जहां चुनाव बीत गया है वहां अब निर्णय की प्रतीक्षा है तथा किसके सिर पर जीत का सेहरा बंधेगा इसका इन्तजार जनता कर रही है।

जहां पर चुनाव नही हुआ है वहां पर एक से एक दिग्गज नेताओं का जमावड़ा लग रहा है तथा उनके द्वारा अपने प्रत्याशियों के लिये प्रचार- प्रचार व्यापक स्तर परहो रहा है। दिग्गज नेताओं के द्वारा अपने प्रत्याशियों को जीतानें के लिए विभिन्न प्रकार के प्रलोभन सांकेतिक रुप से दिए जाते है।

अपनी बड़ाई तथा प्रतिद्वंदियों की निंदा नेताओं के द्वारा सांकेतिक रुप या फिर बिना नाम लिए कह दिया जाता है। जनता भी कम चालाक नही है उसे इस बात का अहसास है ही कि चुनाव बाद क्या होगा। अगर जमीनी हकीकत देखा जाय तो जनता सब कुछ जानती है।

अगर दिग्गज नेताओं के बाद प्रत्याशी या फिर उनके समर्थकों की बात करें तो वे भी अपने ही भावी विकास के गुणगान करते हुये पीछे नही हो रहे है। गांवो में जाकर मतदाताओं से आशीर्वाद के बहाने वोट मांग रहे है।

अंत में मतदाताओं से एक बार मौका देने की बात करते है। मतदाताओं के द्वारा तो एकबारगी यह कह ही दिया जाता है कि पिछले बार जो भी जीत कर गये दुबारा उनका दर्शन गांवों में नही हुआ। 

     दूसरी ओर भदोही लोकसभा चुनाव में जातीय समीकरण का मुद्दा छाया हुआ है। जातीय समीकरण के नाते भदोही का चुनाव काफी रोचक हो गया है। सभी प्रत्याशी जाति व  विकाश का  मुद्दा बनाकर वोट मांग रहे है। लोकसभा 78 क्षेत्र भदोही में सपा-बसपा-रालोद के गठबन्धन से अन्य पार्टी प्रत्याशियों के लिये चुनौती बना हुआ है।

तीनों राष्ट्रीय पार्टियों में तीन 'र' (R)नाम के प्रत्याशी है।  भाजपा से रमेश बिन्द, कांग्रेस से रमाकांत  और सपा बसपा गठबंधन से रंगनाथ मिश्र चुनाव  मैदान में ताल ठोक रहे है। अब देखना यह है कि लोकसभा क्षेत्र भदोही किस पार्टी के 'र' के सिर पर ताज बांधेगी। ये तो मतगणना के बाद ही पता चलेगा।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments