अवैध रूप से संचालित ड्यूसाफ्ट कंपनी के कागजातों की होगी जांच

 अवैध रूप से संचालित ड्यूसाफ्ट कंपनी के कागजातों की होगी जांच

 

बांका:-

थाना क्षेत्र के वैदाचक मोहल्ले में अनिल मंडल के किराए का मकान लेकर नेटवर्किंग कंपनी ड्यूसाफ्ट का कार्यालय अवैध रूप से संचालित कि जा रही है। स्थानीय पुलिस प्रशासन हरकत में आ गया है  मामला आने के बाद पुलिस इस कंपनी की कुंडली खंगालने में जुट गई है।

थानाध्यक्ष मुरलीधर साह ने बताया की कंपनी फर्जी है या सही इसको लेकर जांच-पड़ताल की जा रही है। कंपनी के कर्मियों से कागजात की मांग की गई है। जब से वैदाचक में कंपनी का कार्यालय खुला है तब से ही ये सवालों के घेरे में है। क्योंकि कंपनी के कर्मियों ने इसकी जानकारी स्थानीय थाना को भी नहीं दी थी। जबकि यह कार्यालय करीब डेढ़ महीने से उक्त जगह पर खोलकर गोरखधंधे को अंजाम दिया जा रहा था। वहीं दूसरी और इस मामले का खुलासा तब हुआ जब मंगलवार को पुरानी हटिया टोला निवासी रजनी कुमारी, पिता शंकर साह के परिजन कंपनी के कार्यालय में पहुंचकर हंगामा करने लगे।

बताया जाता है कि कंपनी के एजेंट ग्रामीण क्षेत्र के कम पढ़े-लिखे लोगों को अपने जाल में फंसा कर बेवकूफ बना रहे हैं। शुरू में कंपनी के एजेंट लोगों को ऑनलाइन एजुकेशन देने के नाम पर 95 सौ रुपया लेता है। पैसा देने के बाद छह हजार रुपये प्रतिमाह आमदनी का सब्जबाग दिखाया जाता है, लेकिन एक बार कंपनी के जाल में पैसा देकर फंस जाने के बाद लोगों को नेटवर्किंग मार्केटिंग के बारे में बताया जाता है। इसके बाद लोग अपने पैसों की भरपाई के लिए दूसरों को भी उसी तरह कंपनी में शामिल कराने के लिए मजबूर हो जाते हैं ।

 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments