यमुना महोत्सव की संगीत संध्या में झूमे भक्त मथुरा की बड़ी खबरे

यमुना महोत्सव की संगीत संध्या में झूमे भक्त मथुरा की बड़ी खबरे

सीएमओ कार्यालय मं गलत काम करने वालों की ’गहरी पैठ’

  • -भू्ण लिंग परीक्षण से लेकर झोलाछाप चिकित्सों के खिलाफ विभाग नहीं करता कार्यवाही
  • -दूसरे राज्यों की टीमें यहां आकर कर रहीं छापेमार कार्यवाही
  • -सीएमओ कार्यालय आरोपियों को बचाने का करता है हर बार जतन

मथुरा।

स्वास्थ्य विभाग के अंदर गलत काम करने वालों की अंदर तक पैंठ बनी हुई है। लम्बे समय से स्वास्थ्य विभाग ने छोलाछाप चिकित्सकों, झोलाछाप पैथलेब और इसी तरह के चल रहे मेडिकल स्टरों पर कोई बडी कार्यवाही नहीं की है। यहां तक कि जिलाधिकारी के झोलाछापों के खिलाफ कडी कार्यवाही के आदेशों को भी विभाग हजम कर जाता है।

इतना ही नहीं यहां आकर दूसरे राज्यों की टीमें छापामाकर कार्यवाही करती हैं और आरोपियों को पकडती हैं लेकिन   स्थानीय अधिकारियों को यह सब दिखता नहीं और नहीं इस तरह के कामों की कोई सूचना मिलती है। लोगों का कहना है कि गलत काम करने वालों की सीएमओ आफिस में गहरे तक पैठ बनी हुई है। यही वजह है कि जब बाहर की टीमें यहां आकर कार्यवाही करतीं हैं तब भी सीएमओ कार्यालय आरोपियों को बचाने का अपनी तरफ से हर संभव प्रयास करता नजर आता है।

पलवल हरियाणा की टीम द्वारा कोसी में की गई कार्रवाई से यह तो स्पष्ट हो गया है कि जनपद में अवैध रूप से भ्रूण लिंग परीक्षण का खेल चल रहा है। समीपवर्ती राज्यों के लोग भी यहां आकर परीक्षण करा रहे हैं। ऐसे में यह सवाल उठना लाजमी है कि जब दूसरे राज्यों की टीम को यहां पर हो रहे इस अवैध परीक्षण की जानकारी मिल रीह है

और वहां की टीम यहां आकर कार्रवाई कर रही है तो फिर जनपद स्वास्थ्य विभाग की टीम क्या कर रही है? हालांकि स्थानीय टीम समय-समय पर अल्ट्रासाउंड सेंटर चेक करती है और अल्ट्रासाउंड कराने वाली महिलाओं के रिकार्ड देखती है, लेकिन टीम द्वारा कोई मामला न पकड़ना चर्चा का विषय बना हुआ है।

इस बारे में टीम के एक सदस्य का कहना है कि स्टिंग ऑपरेशन के लिए यहां कोई तैयार नहीं होता है। कोसीकलां में भ्रण लिंग परीक्षण खुलासे के बाद स्थानीय स्वास्थ्य विभाग गंभीर हो गया है। सख्ती बरतते हुए अब बाहरी गर्भवती महिलाओं की जांच पर नजर रखी जाएगी। इधर अल्ट्रासाउंड सेंटर संचालकों में हड़कंप मचा हुआ है।

सीएमओ डाक्टर शेर सिंह के अनुसार समय-समय पर अल्ट्रासाउंड सेंटर टीम द्वारा चेक किए जाते हैं। बाहरी टीम आकर यहां कार्रवाई करती है, जोकि चिंता का विषय है।

 

यमुना महोत्सव की संगीत संध्या में झूमे भक्त

मथुरा।

श्री बृज यात्रा सेवा संस्थान द्वारा आयोजित यमुना महोत्सव के तीसरे दिन स्वच्छ बृज हरित बृज विषय पर चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। जिसमें सीनियर वर्ग में प्रथम स्थान दीपमणि अग्रवाल, द्वितीय प्रिया सारस्वत तृतीय याशी लवानिया रहीं।

जूनियर वर्ग में प्रथम खुशी कुन्तल, द्वितीय हिमांशु तृतीय नरेन्द्र बनर्जी रहे। निर्णायक कु अम्ब्रीशा मित्तल और ब्रषभान गोस्वामी रहे। शाम को संगीत संध्या का भव्य आयोजन किया गया। जिसका दीप प्रज्ज्वलन हवेली संगीत परम्परा की संवाहक डॉ वंदना तेलंग और बृज की प्रसिद्ध लोक गायिका डॉ सीमा मोरवाल द्वारा किया गया।

सर्वप्रथम धर्मदास चतुर्वेदी ने मां यमुना की आरती गायी। गणेश वंदना नरेन्द्र द्वारा गायी गयी। कीरतिवल्लभ देव पाठक ने मेरा तन मन बिन फन नागिन बनिके डस गयी बाँसुरी आदि अनेक लोक गीत गाये तो भक्त झूमकर नाचने लगे। पुण्डरिकाक्ष देव पाठक ने बांके बिहारी की देख छटा मेरो मन है गयो लटा पटा गाया तो आनंद की वर्षा होने लगी।

सुंदरी चतुर्वेदी और डॉ वंदना तेलंग ने पुष्टिमार्ग के पदों का गायन किया। वृंदावन से आयीं काकुली विश्वास ने राधा रानी की महिमा को गाया। पटना की गायिका आभा द्विवेदी ने बृजभाषा और भोजपुरी में भजन सुनाए । अंत में प्रमोद शर्मा ने बृज के लोकगीत गाये तो घंटो तक श्रोता झूमते नाचते रहे।

अभय चतुर्वेदी और शुभम चैधरी ने भी भजन गाये। भागवताचार्य पंकज शास्त्री ने नन्द के आनंद भयो जय कन्हैयालाल की का गायन कर नन्दोत्सव का आनंद कराया। धर्मदास चतुर्वेदी ने कान्हा की चतुर्थ प्रिया यमुना जी के आध्यात्मिक मह्त्व को बताते हुए गुणगाण किया।

शैलेन्द्र गोयल चन्द्र प्रकाश गोयल महेश खण्डेलवाल ने सभी संगीतकारों को सम्मानित किया।कार्यक्रम का संचालन अनुपम गौतम एडवोकेट और धन्यवाद ज्ञापन नरेन्द्र एम चतुर्वेदी ने किया।कार्यक्रम में विशेष रूप से डॉ शोभा लवानिया सपना खण्डेलवाल अनिल गौतम अजय वर्मा संगीता सरस्वत वंदना सक्सेना भरत खण्डेलवाल डॉ दीपा अग्रवाल डॉ रुचि अग्रवाल राहुल अग्रवाल  आदि उपस्थित रहे।

Comments