पन्द्रह दिनों से तालाब में घूम रहे मगरमच्छ को आखिर वन विभाग ने पकड़ ही लिया

पन्द्रह दिनों से तालाब में घूम रहे मगरमच्छ को आखिर वन विभाग ने पकड़ ही लिया

नरेश गुप्ता /अयूब खान की रिपोर्ट

पन्द्रह दिनों से तालाब में घूम रहे मगरमच्छ को आखिर वन विभाग ने पकड़ ही लिया 

बिसवां सीतापुर- ग्राम महिमापुर में सारदा सहायक नहर से आये एक मगरमच्छ ने वन विभाग के साथ लुक्का छिप्पी का खेल खेलरहा था।और पकड़ में नही आ रहा था जिससे गांव दहसत फैली थी। तालाब में करीब 15 दिनों से वन विभाग की टीम ने नजर बना रक्खी थी।आखिर पंद्रहवें दिन  बिसवां वन विभाग की व चहलरी घाट तथा लखनऊ से आई टीम ने शुक्रवार दोपहर करीव 11बजे  मगरमच्छ को पकड़ने में सफलता हासिल कर ली। जानकारों के अनुसार बिसवां ब्लॉक क्षेत्र के ग्राम महिमापुर के कोटेदार मुशर्रफ पुत्र जमाई के घर के सामने बने तालाब में करीब पन्द्रह दिन पहले शारदा सहायक नहर से निकल कर नाले के रास्ते से एक व्यस्क मगरमच्छ घुस आया था। जिसे देखने के लिए प्रतिदिन हजारों लोगों का जमावड़ा लगा रहता था यह मगरमच्छ
तालाब के अंदर पड़ी मछलियों को अपना शिकार बना कर अपनी भूख शांत कर रहा था और दिन में कई बार बाहर भी निकल कर बैठता था। जिसकी सूचना पर कई बार वन विभाग की टीम द्वारा जाल लगाकर पकड़ने का प्रयास भी किया गया परंतु उसे कल गुरुवार तक पकड़ नही सके थे।जिससे ग्रामीणों को अपने बच्चों को लेकर भय भी सता रहा था।लोगों में चर्चा यह हो रही थी कि आखिर एक छोटे से तालाब से मगरमच्छ पकड़ने में वन विभाग नाकाम हो रहा है।परन्तु शुक्रवार पंद्रह नबम्बर को बिसवां वन विभाग रेंजर अभय कुमार, अमित कटियार, विभागीय टीम के साथ पूर्व डिप्टी रेंजर सुरेश पाल सिंह, एवं अरुणिमा सिंह लखनऊ की टीम तथा चहलारी घाट के मल्लाहों द्वारा कई बार जाल डाला गया लेकिन वह निकल कर भाग जाता था।परंतु टीम की कड़ी मशक्कत के बाद करीब 11:00 बजे उसे जाल में फंसा कर बाहर निकाल लिया और डी सी एम में लादकर चहलरी घाट ले जाकर छोड़ दिया सुरक्षा के लिए पुलिस की टीम भी मौजूद रही।

Comments