क्रासर-राम जैसा पुत्र नहीं हो सकता लेकिन सीता जैसी बेटी बन सकती है:साध्वी श्वेता पांडेय

क्रासर-

राम जैसा पुत्र नहीं हो सकता लेकिन सीता जैसी बेटी बन सकती है:साध्वी श्वेता पांडेय क्रासर-संतन से संग लाग रे तेरी अच्छी बनेगी कुशीनगर/प्रमोद रौनियार खड्डा विकास खंड के ग्रामसभा तिनबरदहा में  स्थित पानमती देवी स्थान पर चल रहे

श्री शतचंडी महायज्ञ के तीसरे दिन सत्संग की महिमा का वर्णन करते हुए साध्वी स्वेता पांडेय उर्फ किशोरी जी वृंदावन ने पंडाल में कथा श्रवण करने पहुचे श्रद्धालुओं को सत्संग की महिमा का वर्णन करते हुए कही की माता-पिता बेटों को पढ़ाते है

लेकिन बेटियों को नही जब बेटों के अधिकार का समय आता है तब बेटियां ही निभाती है। साध्वी किशोरी ने कही कि जब मां के गर्भ में बेटियां पलती होती है तो उन्हें मार दिया जाता है।जब कि बेटीया ही ऐसी है जो परिवार को कोई अनिष्ट नही होने देती है।

परिवार को बढ़ाने का कार्य करती है।इस लिए बेटियों के जीवन को सवारे उन्हें पढ़ाये लिखाये। वही माता-पिता की अंतिम समय के लिए साथी बनती है। ऐसे मार्मिक रसवर्षा से श्रोताओं के मन भावविह्वल हो जा रहे थे।

साध्वी किशोरी ने दूसरे छंद में कही कि संतन से संग लाग रे..तेरी अच्छी बनेगी जैसी अनमोल वचन और वाणी सुनकर श्रोता गण सोचने के लिए मजबूर हो जा रहे थे।

Comments