चुनाव आयोग ही लोकतन्त्र का हत्यारा है -जन सृजन पार्टी

चुनाव आयोग ही लोकतन्त्र का हत्यारा है -जन सृजन पार्टी

चुनाव आयोग ही लोकतन्त्र का हत्यारा है-जन सृजन पार्टी।

अयोध्या।

अयोध्या लोकसभा जन सृजन पार्टी के प्रत्याशी राकेश कुमार पाण्डेय एडवोकेट का नामांकन ख़ारिज किये जाने के सन्दर्भ में फलस्वरूप आज़ पार्टी कार्यालय पर एक बैठक आहूत की गयी

जिसमें नामांकन ख़ारिज किये जाने के कारणों कॊ देखा गया और यह पाया गया की चुनाव आयोग द्वारा नियुक्त अधिकारी ने नामांकन प्रपत्रों की जाँच के बहाने नामांकन पत्र ख़ारिज करने की सिर्फ खानापूर्ति की जबकि नामांकन पत्रो की जाँच में यदि कोई त्रुटि या अपूर्णता रहती है

तो उसको सही करने का समय प्रदान किया जाता है ऐसा ना करने पर ही नामांकन पत्र ख़ारिज किये जाने के योग्य है किन्तु चुनाव अधिकारी के क्रिया कलापों से यह स्पष्ट था की उनका रवैया पक्षपातपूर्ण है व किसी के दवाब में नामांकन पत्रो कॊ ख़ारिज किया जा रहा है और यह भी देखा गया की जो प्रभावशाली सत्ताधारी या या अन्य पार्टियो के प्रत्याशी हैं

तथा जिनकी त्रुटियाँ मिलीं उनको पूरा समय नामांकन पत्र कॊ ठीक करने के लिये दिया गया ऐसे में जन सृजन पार्टी चुनाव आयोग कॊ ही लोकतंत्र का हत्यारा मानती है जो की निष्पक्ष चुनाव कराने का मात्र दिखावा कर रही है इस सन्दर्भ में जन सृजन पार्टी ने यह निर्णय लिया है की इसके विरुद्ध याचिका दायर की जायेगी।

इस बैठक में प्रमुख रुप से उदयभान तिवारी, अशोक श्रीवास्तव, प्रशांत तिवारी, कार्तिकेय श्रीवास्तव, अमरेश पाण्डेय, शिवम यादव, अविनाश सोनकर, शुभम कुमर, अभिषेक श्रीवास्तव, अनुभव जयसवाल, मानिक चंद सोनी, डा.कृष्णा चन्द्र सिंह, राहुल कुमार, अनुज श्रीवास्तव, शुभम कश्यप, महेश यादव, उमाधर त्रिपाठी, अनुज यादव, नीरज निषाद, सर्वेश वर्मा, बाबर अली आदी कार्यकताओं की उपस्थिति रही।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments