सीओ हैदरगढ़ का तुगलकी फरमान

सीओ हैदरगढ़ का तुगलकी फरमान

 

दलित महिला ने क्षेत्राधिकारी पर लगाया गालियां देने का आरोप 

पीड़ित महिला ने मुख्यमंत्री सहित महिला आयोग को भेजा पत्र

 

त्रिवेदीगंज, बाराबंकी।

लोनीकटरा थाना क्षेत्र के मनी का पुरवा मजरे भीतरी गाँव निवासिनी एक दलित महिला ने क्षेत्राधिकारी हैदरगढ़ के ऊपर जातिसूचक गालियां देने का आरोप लगाते हुए महिला आयोग समेत कई उच्च अधिकारियों को शिकायती पत्र भेजकर कार्यवाही की मांग की है। लोनीकटरा थाना क्षेत्र के मनीकापुरवा गाँव निवासिनी सुषमा पत्नी इंद्रजीत ने शिकायती पत्र में आरोप लगाते हुए बताया कि जमीनी विवाद के चलते बीते वर्ष 8 नवम्बर को गाँव के ही विपक्षी मोहर्रम अली आदि ने प्रार्थिनी के पति इंद्रजीत की जमकर पिटाई कर दी थी।

मारपीट की घटना में पुलिस ने एकपक्षीय कार्यवाही करते हुए प्रार्थिनी के पति को जेल भेज दिया था। जिसके बाद न्यायालय के आदेश के बाद लोनीकटरा पुलिस ने गाँव के विपक्षी मोहर्रम अली, सद्दाम हुसैन, जियाउल हक, एजाज अहमद, आशिक अली और अनवर के विरुद्ध दलित उत्पीड़न समेत मारपीट की धाराओ में अभियोग दर्ज कर लिया था। उक्त मामले की विवेचना क्षेत्राधिकारी हैदरगढ़ द्वारा की जा रही है। जिसमे वादी और गवाहों को बयान देने हेतु  हैदरगढ़ कार्यालय में बीते माह 7 अप्रैल को बुलाया गया था।

जब बयान देने प्रार्थिनी अपने पक्षकारों से साथ पहुंची तो क्षेत्राधिकारी हैदरगढ़ द्वारा जाति सूचक गालिया देते हुए कहा कि तुम्हरा पति जो जेल में बंद है उसकी जगह जेल में ही है। मेरा बस चलता तो उसे छूटने न देता। और सुलह का दबाव बनाते हुए कहा कि सुलह कर लो वरना मुकदमे में फाइनल रिपोर्ट लगा दूंगा। जिससे आहत होकर दलित महिला ने महिला आयोग समेत अन्य उच्चाधिकारियों को शिकायती पत्र भेजकर कार्यवाही की मांग की है।

वहीं इस सम्बन्ध में क्षेत्राधिकारी हैदरगढ़ का कहना था कि मैने किसी को भी कोई अपशब्द नही कहा है। मेरे ऊपर झूठे आरोप लगाये जा रहे हैं। मेरे द्वारा उक्त मुकदमें की जांच की जा रही है और जांच में जो सही पाया जायेगा वही किया जायेगा। 
 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments